हिसार के डॉ प्रभु स्वामी ने किया पेट की गांठो (Peritoneal Hydatidosis) का दुर्लभ ऑपरेशन


हिसार( राजेश सलूजा /युरेशिया ) पिछले लगभग 14 साल से पेट की गम्भीर समस्या से ग्रसित  राज्यस्थान के सूरतगढ़ की रहने वाली 30 वर्षिय महिला इन्द्रो देवी को हिसार के सपरा मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल के आपात कालीन विभाग में पेट दर्द की गम्भीर समस्या के कारण रविवार को भर्ती किया गया।

रोगी की जांच में पाया गया कि पेट में 100 से भी अधिक अनगनित (पेरिटोनेअल हैडटीडोसिस)गांठे हैं। इस के चलते इस महिला रोगी को पेट दर्द, भूख न लगना व अपज़ जैसे लक्षणों की नाज़ुक स्थिति में उस की जान बचाने के लिए अस्पताल के डॉक्टरों की टीम ने बिना समय गवाए अमरजनसी ऑपरेशन करने का निर्णय लिया। 

लगभग पाँच घंटे तक चले इस जटिल ऑपरेशन के बारे में बताते हुए सपरा अस्पताल के गेस्ट्रो व लीवर सर्जरी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ प्रभु स्वामी ने बताया कि पेट की सर्जरी के दौरान रोगी के पेट के महत्वपूर्ण अंगों को क्षतिग्रस्त होने से बचाते हुए सभी पैरासाइट (Peritoneal Hydatidosis) ग्रसित गांठो को निकाल दिया गया है जिनका वजन 18 किलो के आसपास है।

डॉ प्रभु के अनुसार ये विशेष प्रकार का पैरासाइट कुत्तों-भेड़ो आदि पालतू पशुओं के सम्पर्क में आने से मनुष्यों के शरीर में प्रवेश कर जाता है और इस से पेट में पैरासाइट युक्त गांठें बन जाती है। आमतौर पर इस तरह के रोगियों के शरीर में एक-दो गांठे ही होती है लेकिन इस रोगी के शरीर में 100 से भी ज्यादा गांठे थी जिससे रोगी की स्थिति बहुत ही गम्भीर बनी हुई थी। ये गांठे अन्दर से बहुत ही जहरीली होती हैं, अगर इनमें से एक भी फट जाए तो रोगी की जान बचाना बहुत ही मुश्किल काम हो जाता है। इन परिस्थितियों में समय पर ऑपरेशन के द्वारा रोगी की जान को बचाना एक बहुत ही जटिल प्रक्रिया होती है। 

लेकिन सभी प्रकार की कठनाइयों के बावजूद मैंने, डॉ तरुण सपरा और बेहोशी के डॉक्टर डॉ राजेश गर्ग के साथ साथ अस्पताल की पूरी टीम ने इस जटिल प्रक्रिया को अपनाया और सफल भी बनाया। अब मरीज की सेहत में काफी सुधार है और उस की हालत खतरे से बाहर है। मरीज की स्थिति में हो रहे सुधार को देखते हुए उसे जल्द ही अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

पत्रकारों से बातचीत के दौरान स्वयं मरीज व उसके परिजनों ने इस जटिल ऑपरेशन की कामयाबी और रोगी को नई ज़िन्दगी देने के लिए सपरा अस्पताल के डॉक्टरों और उनकी पूरी टीम के प्रति अपना आभार व्यक्त किया। 

सपरा अस्पताल के डायरेक्टर डॉ तरुण सपरा तथा गेस्ट्रो व लिवर सर्ज़री विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ प्रभु स्वामी का कहना है कि अब पेट की इस तरह की सर्जरी के अतिरिक्त भी इस विभाग में पेन्क्रियाज और लीवर कैंसर तथा ज़्यादा मात्रा में शराब पीने से होने वाली पैंक्रियाज और लीवर की सड़न के ऑपरेशन दूरबीन या ओपन सर्जरी द्वारा करने की सुविधा भी अब इस अस्पताल में उपलब्ध हैं। अब इस तरह की बीमारियों से ग्रसित मरीज़ों को इलाज के लिए ज़्यादा दूर जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी जिससे मरीजों का समय और पैसा दोनो बचेगें।

Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट