4 दिन से लापता युवक की गुमशुदगी की दी तहरीर

Image
लापता बच्चे का फोटो डॉ असलम/ युरेशिया  बहसूमा। नगर के मोहल्ला चैनपुरा का रहने वाला एक 17 वर्षीय युवक संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गया। परिजन 4 दिनों से उसकी तलाश में जुटे हुए थे। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। गायब हुए बच्चे के पिता ने थाने पर गुमशुदगी दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। थाने पर तहरीर देते हुए लापता हुए एक बच्चे के पिता शकील पुत्र सिराजुद्दीन ने बताया कि उसका पुत्र नईम उम्र 17 वर्ष बीते 28 फरवरी को घर से बिना बताए चला गया। जब 1 मार्च की शाम तक घर नहीं लौटा तो उसकी रिश्तेदारी एवं संबंधियों में तलाश की। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। पीड़ित ने थाने पर गुमशुदगी की तहरीर देते हुए बरामदगी की मांग की है। थाना प्रभारी निरीक्षक मनोज चौधरी का कहना है कि तहरीर के आधार पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

देश की प्रगति में है असम की मीडिया का महत्वपूर्ण योगदान: प्रो संजय द्विवेदी


 प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क 

नई दिल्ली। ''असम मीडिया की परंपरा बेहद समृद्ध है। वर्ष 1846 से उसने एक लंबा सफर तय किया है। असम मीडिया के 175 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर आईआईएमसी द्वारा नई दिल्ली में एक भव्य समारोह का आयोजन किया जाएगा।'' यह विचार भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) के महानिदेशक प्रो संजय द्विवेदी ने गुवाहाटी में असम मीडिया की 175वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित समारोह में व्यक्त किये। कार्यक्रम का आयोजन 'महाबाहु' संस्था एवं 'मल्टीकल्चरल एजुकेशनल डेवलपमेंट ट्रस्ट' द्वारा किया गया। समारोह में प्रसिद्ध शिक्षाविद डॉ. सुनील पवन बरुआ, एसटीपीआई के निदेशक प्रबीर कुमार दास, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, गुवाहाटी के आयुक्त हेमन दास एवं आध्यात्मिक गुरु डॉ. पीताबंर देव गोस्वामी भी मौजूद थे। 

इसे भी पढ़ें: दुनिया को भारत ने सिखाया आपदा में अवसर तलाशना: गजेंद्र सिंह शेखावत

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में अपने विचार व्यक्त करते हुए प्रो. द्विवेदी ने कहा कि यह असमिया साहित्य और पत्रकारिता के उन दिग्गजों के बलिदान को याद करने का अवसर है, जिन्होंने असम में मीडिया की नींव रखी। जनवरी 1846 में 'अरुणोदय' का प्रकाशन शुरू हुआ था और वहां से असम का मीडिया आज काफी आगे निकल चुका है। प्रो. द्विवेदी ने कहा कि आज का दिन हेमचंद्र बरुआ, राधानाथ चांगकोकोटी, कीर्तिनाथ शर्मा, निलामोनी फुकन और बेनुधर शर्मा जैसे लोगों को याद करने का दिन है, जिन्होंने आजादी से पहले असम में प्रेस की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने कहा कि जब हम असम में मीडिया के 175 वर्ष पूरा होने का जश्न मना रहे हैं, तब भारत की हिंदी पत्रकारिता 195 वर्ष पूरे करने जा रही है।

इसे भी पढ़ें: IIMC में पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन, 31 जनवरी तक चलेगा स्वच्छता पखवाड़ा

प्रो. द्विवेदी के अनुसार समय के साथ मीडिया की भूमिका भी बदली है। संचार क्रांति का इसमें सबसे ज्यादा योगदान रहा है। आज सुशासन में मीडिया ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस अवसर पर प्रसिद्ध शिक्षाविद डॉ. सुनील पवन बरुआ ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में 'अरुणोदय' के प्रकाशन को एक क्रांति करार दिया। उन्होंने कहा कि 'अरुणोदय' एक साधारण अखबार नहीं था। इसने पूर्वोत्तर क्षेत्र को अंतरराष्ट्रीय मंच पर पेश किया और समाज में पुनर्जागरण की शुरुआत की। कार्यक्रम में ''हिस्ट्री ऑफ 175 ईयर्स ऑफ मीडिया इन असम एंड बियॉन्ड'' तथा ''प्रेस इन असम : ऑरिजिन एंड डेवलपमेंट'' नामक दो पुस्तकों का विमोचन भी किया गया।

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला