वेंक्टेश्वरा में ’’नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति, प्रभावीक्रियान्वयन एवं चुनौतियां’’ विषय पर एकदिवसीय सेमीनार

  • सशक्त भारत की अवधारणा को मजबूत करती है नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति- डॉ0 सुधीर गिरि, चेयरमैन


अनीस खान यूरेशिया ब्यूरो

मेरठ। आज दिल्ली-बाईपास स्थित श्री वेंक्टेश्वरा विश्वविद्यालय/संस्थान में ’’नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति, प्रभावी क्रियान्वयन एवं चुनौतिया’’ विषय पर एकदिवसीय राष्ट्रीय सेमीनार का आयोजन किया गया, जिसमें देष के विभिन्न राज्यों से आये शिक्षाविदो, प्राचार्यो, कुलपतियों, पूर्व कुलपति, वरिष्ठ शोधकर्ताओ ने एक सुर मे नयी शिक्षा नीति की प्रंशसा करते हुए इसको एक समान रुप से पूरे देश में अन्तिम छोर (अन्तोदय) तक लागू करने की वकालत की। इसके साथ ही सभी अतिथियों को शॉल भेटकर एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया गया। 

वेंक्टेश्वरा संस्थान के डॉ0 सी0वी0 रमन केन्द्रीय आडिटोरियम में आयोजित ’’नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति, प्रभावी क्रियान्वयन, विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमीनार का शुभारम्भ वेंक्टेश्वरा समूह के चेयरमैन डॉ0 सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डॉ0 राजीव त्यागी, मुख्य वक्ता एस0आई0सी0टी0ई0 के पूर्व निदेशक डॉ0 शीशपाल सिंह, कुलपति प्रो0 पी0के0 भारती, डॉ0 विनय अवस्थी, आदि ने सरस्वती माँ की प्रतिमा के सन्मुख दीप प्रज्जवलित करके किया। 

अपने सम्बोधन में समूह चेयरमैन डॉ0 सुधीर गिरि ने कहा कि नयी शिक्षा नीति में प्राईमरी शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक में आमूलचूल ऐतिहासिक सकारात्मक सुझावो का समावेश है। नयी शिक्षा नीति युवाओ को स्वावलम्बी बनाने के साथ-2 सशक्त भारत निर्माण के साथ देश को विश्व गुरु बनने की ओर लेकर जाती है। अगर इसको दुनिया की टॉप टेन राष्ट्रीय शिक्षा नीतियो की सूची में अग्रिम स्थान मिले, तो कोई हैरानी की बात नहीं होगी।

मुख्य वक्ता अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के पूर्व निदेशक डॉ0 शीशपाल सिंह ने सभी शिक्षाविदो से अपील करते हुए कहा कि यदि सही में भारत को विश्व गुरु बनाना है, तो हमे शिक्षा के पुराने तौर तरीको को छोडकर डिजिटल इण्डिया, उन्नत भारत, सशक्त भारत, स्किल इण्डिया जैसी कल्याणकारी योजनाओ को आत्मसात करते हुए आधुनिक तकनीक एवं नवाचारो (इनोवेशन) पर ध्यान देना होगा।

प्रतिकुलाधिपति डॉ0 राजीव त्यागी ने कहा कि नयी शिक्षा नीति बहुत ही शानदार एवं सार्थक है, लेकिन सबसे बडी चुनौती इसके प्रभावी क्रियान्वयन की है। सरकार के साथ-2 शैक्षिक संस्थाओ, स्वयंसेवी संस्थाओ के साथ प्रत्येक व्यक्ति को आगे आकर देश के अन्तिम छोर तक इस शानदार राष्ट्रीय शिक्षा नीति की पहुंच सुनिश्चित करानी होगी। राष्ट्रीय सेमीनार को कुलपति प्रो0 पी0के0 भारती, परिसर निदेशक डॉ0 प्रभात श्रीवास्तव, प्रो0 एस0के0 सिंह, प्रो0 आर0एस0 भदौरिया, डॉ0 संजय तिवारी समेत एक दर्जन से अधिक शिक्षाविदो ने सम्बोधित किया। इस अवसर पर उपनिदेशक दूरस्थ शिक्षा अलका सिंह, कविता, दीपक कुमार, ब्रजपाल सिल, विश्वास त्यागी, विनयजीत, मीडिया प्रभारी विश्वास राणा आदि लोग उपस्थित रहे। कार्यक्रम का सफल संचालन उपनिदेशक दूरस्थ शिक्षा अलका सिंह ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट