4 दिन से लापता युवक की गुमशुदगी की दी तहरीर

Image
लापता बच्चे का फोटो डॉ असलम/ युरेशिया  बहसूमा। नगर के मोहल्ला चैनपुरा का रहने वाला एक 17 वर्षीय युवक संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गया। परिजन 4 दिनों से उसकी तलाश में जुटे हुए थे। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। गायब हुए बच्चे के पिता ने थाने पर गुमशुदगी दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। थाने पर तहरीर देते हुए लापता हुए एक बच्चे के पिता शकील पुत्र सिराजुद्दीन ने बताया कि उसका पुत्र नईम उम्र 17 वर्ष बीते 28 फरवरी को घर से बिना बताए चला गया। जब 1 मार्च की शाम तक घर नहीं लौटा तो उसकी रिश्तेदारी एवं संबंधियों में तलाश की। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। पीड़ित ने थाने पर गुमशुदगी की तहरीर देते हुए बरामदगी की मांग की है। थाना प्रभारी निरीक्षक मनोज चौधरी का कहना है कि तहरीर के आधार पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

’’वेंक्टेश्वरा चिकित्सा दीक्षारम्भ-2021’’ का शानदार आगाज

  • एम0बी0बी0एस0 प्रथम वर्ष में प्रवेश लेने वाले 150 छात्र-छात्राओ को दिलायी गयी मानव सेवा की शपथ
  • आपकी निस्वार्थ चिकित्सा सेवा, समर्पण एवं त्याग ही आपको दिलाता है भगवान का दर्जा- डॉ0 सुधीर गिरि, चेयरमैन वेक्टेश्वरा समूह
  • वेंक्टेश्वरा नयी मेडिकल तकनीको द्वारा देश को विश्वस्तरीय चिकित्सक देने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध- बिग्रडियर डॉ0 सतीश अग्रवाल, डारेक्टर/डीन ’’विम्स’’ मेडिकल कॉलेज।


अनीस खान/यूरेशिया ब्यूरो

मेरठ/अमरोहा। आज राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित श्री वेंक्टेश्वरा विश्वविद्यालय के अधीन संचालित वेंक्टेश्वरा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साईंसेज (विम्स) मे सत्र 2020-21 के एम0बी0बी0एस0 पाठ्क्रम के नवप्रवेशित 150 छात्र-छात्राओ के लिए आयोजित ओरिन्टेशन प्रोग्राम ’’चिकित्सा दीक्षारम्भ-2021’’ का शानदार शुभारम्भ हुआ, जिसमें मेडिकल कॉलेज के स्टॉफ एवं प्रबन्धन सदस्यों ने चिकित्सको की देश सेवा में भूमिका एवं उनकी गरिमा के साथ मानव सेवा की शपथ दिलाकर उनसे निस्वार्थ भाव से मरीजो के कुशल उपचार एवं सेवा की आवाहन किया।

श्री वेक्टेश्वरा विश्वविद्यालय के डॉ0 सी0वी0 रमन सभागार में आयोजित ’’चिकित्सा दीक्षारम्भ-2021’’  का शुभारम्भ विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ0 सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डॉ0 राजीव त्यागी एवं निदेशक विम्स मेडिकल कॉलेज बिग्रेडियर (से0नि0) डॉ0 सतीश अग्रवाल ने सरस्वती माँ की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करके किया। इसके बाद एम0बी0बी0एस0 प्रथम वर्ष छात्राओ ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। 

अपने सम्बोधन में समूह चेयरमैन डॉ0 सुधीर गिरि ने कहाकि दुनिया में चिकित्सक एवं न्यायधीश को ही भगवान का दर्जा दिया जाता है। लेकिन सही मायनो में रोगियो की निस्वार्थ सेवा त्याग एवं समपर्ण के कारण चिकित्सका का स्थान न्यायधीश से भी ऊपर रखा गया है। हम नवप्रवेशित सभी छात्र-छात्राओ से अपेक्षा करते है कि चिकित्सक की गरिमा को ध्यान में रखते हुए आप सभी देश सेवा में अपना योगदान देगे। प्रतिकुलाधिपति एवं विम्स मेडिकल कॉलेज के सी0ई0ओ0 डॉ0 राजीव त्यागी ने कहा कि वैश्विक स्वास्थ्य संकट कोरोना ने पूरी दुनिया ने भारतीय चिकित्सको के कुशल प्रबन्धन, त्याग एवं समर्पण का लोहा माना। इस अवसर पर कोरोनाकाल में मरीजो का उपचार करते हुए अपनी जान गवांने वाले चिकित्सको को श्रद्धांजलि भी अर्पित की गयी। चिकित्सा दीक्षारम्भ-2021 कार्यक्रम को कुलपति डॉ0 पी0के0 भारती, कुलसचिव डॉ0 पीयूष पाण्डे, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ0 जे एन राव, अपर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ0 सुशील शर्मा , प्रो0 डॉ0 अतुल वर्मा, डॉ0 बी0एन0 सिंह, डॉ0 संजीव भटट, डॉ0 भूपेन्द्र बोरा आदि ने भी सम्बोधित किया।

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला