अंर्तराष्ट्रीय महिला दिवस: हमदर्द लैबोरेटरीज ने महिलाओं और डॉक्टरों को किया सलाम

महिलाओं ने निशुल्क परामर्श लेकर हमदर्द वेलनेस सेंटर्स का लाभ उठाया  युरेशिया संवाददाता   गाजियाबाद। महिलाओं और डॉक्टरों के निरंतर सहयोग को सम्मान देने के लिये हमदर्द लैबोरेटरीज वेलनेस कैम्पेन लॉन्च कर अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मना रहा है। यह पहल कोविड-19 महामारी के विरुद्ध सुरक्षा की अग्रिम पंक्ति के तौर पर घर की महिलाओं और डॉक्टरों के निरंतर सहयोग और प्रयासों की प्रशंसा करती है। इस पहल पर अपनी बात रखते हुए हमदर्द लैबोरेटरीज (मेडिसिन डिविजन) के चेयरमैन अब्दुील मजीद ने कहा कि हमदर्द का इतिहास कई छोटी-छोटी कहानियों से भरा है। इस कैम्पेन के हिस्से के तौर पर हमदर्द की लोकप्रिय हेल्थस वैन्स पहल गाजियाबाद व मेरठ की महिलाओं को मुफ्त में स्वाथय संबंमधी परामर्श दे रही है। इस पहल के द्वारा हमदर्द की योजना हजारों महिलाओं तक पहुंचने की है। हमदर्द पीसीओ/पीसीओडी और निजी समस्याओं जैसे स्वास्थ्य संबंधी मामलों के इलाज के लिये सही जानकारी की जरूरत को ध्यान में रखकर देशभर में अपने प्रसिद्ध हमदर्द वेलनेस सेंटर्स पर महिलाओं को मुफ्त परामर्श भी देगा। महिला डॉक्टर्स ने सोमवार को इन सेंटर्स पर रेडियो में वीमन ए

डीपीएम स्कूल में इंडियन आर्मी डे मनाया गया

इंडियन आर्मी के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन करते हुए स्कूल के शिक्षक

डॉ असलम /युरेशिया

बहसूमा। डीपीएम सीनियर सैकेन्ड्री पब्लिक स्कूल बहसूमा के  परिसर में इंडियन आर्मी डे मनाया गया। जिसमे विद्यालय सचिव जगदीश त्यागी ने विद्यालय परिसर में तिरंगा फहराकर देश के अमर शहीदों को नमन किया तथा साथ ही जो जवान देश के रक्षा के लिए अपने जान की प्रवाह न करते हुए कठिन से कठिन परिस्थितियों में देश की सेवा में है उनके स्वास्थ की कुशल कामना की। सचिव ने कहा कि उन सभी बहादुर जवानों को सलाम जिनके समर्पण एवं कर्तव्य परायणता से हम सुरक्षित एवं गौरवान्वित महसूस करते है। विद्यालय के प्रधानाचार्य सैयद जिया मेंहदी ने बताया की 15 जनवरी को फील्ड मार्शल कोडेंद्र मदप्पा करियप्पा या के.एम. को सम्मानित करने के लिए भारतीय सेना दिवस मनाने की तारीख के रूप में चुना जाता है। करियप्पा जिन्होंने 1949 में जनरल सर फ्रांसिस बुचर की जगह उसी दिन भारतीय सेना के पहले कमांडर के रूप में कमान संभाली थी। उस दिन को लोकप्रिय रूप से भारतीय सेना स्थापना दिवस के रूप में जाना जाने लगा। यह दिन भारतीय सैनिकों द्वारा दिखाए गए बलिदान और साहस को भी दर्शाता है, जो युद्ध के मैदान में अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुए मारे गए। कार्यक्रम को सफल बनाने में विद्यालय कोऑर्डिनेटर अनुज त्यागी, शिल्पा त्यागी, विनीता रस्तोगी, तनवीर, अमित शर्मा, कपिल शर्मा, मंजू तोमर आदि का सहयोग रहा। 

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट