ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रॉलो से हो सकता है बड़ा हादसा

Image
थाने के सामने ट्रैक्टर ट्राला से लगा लंबा जाम। डॉ असलम/यूरेशिया बहसूमा। नगर में ओवरलोड वाहनों पर नहीं लग रहा अंकुश चीनी मिल में सेंट्रल से गन्ना लाने वाले ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रॉली नगर में कभी भी बड़े हादसे को आमंत्रित कर सकते हैं नगर के मवाना रामराज रोड मार्ग पर पड़ने वाले सेंटर से मिल में गन्ना जाता है लेकिन ओवरलोड होने के कारण जहां जाम की समस्या रहती है और लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है कई बार दुर्घटना भी हो चुकी है ओवरलोड वाहनों पर अंकुश नहीं लग पा रहा है हालांकि पहले सैंटरो  से गन्ना ट्रक से उठाया जाता था। लेकिन अब सेंटर  से गन्ना  ट्रैक्टर  टोला से उठाया  जा रहा है  जिसमें  लगभग वजन  350  कुंटल  के करीब  होता है  जो  बहुत  अधिक है जो  दुर्घटना  को आमंत्रित करता है। संयुक्त व्यापार संघ एसोसिएशन के कई बार अधिकारियों को ज्ञापन देकर ओवरलोड वाहनों पर अंकुश लगाने की मांग कर चुके हैं लेकिन इस और ध्यान नहीं दिया गया इस मामले में थाना प्रभारी शिवदत्त ने बताया कि 2 दिन पूर्व कुछ ओवरलोड ट्रैक्टरों के चालान भी किए जा चुके हैं ओवरलोड वाहनों पर जल्द ही अंकुश लगाया जाएगा

जिस्मफरोशी कराने वाले व्यापारी नेता विनोद अरोड़ा को गिरफ्तार कर भेजा जेल

  • उत्‍तर प्रदेश के मेरठ में देह व्‍यापार करने वाले मुख्‍य आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। आरोपित एक साल पु‍लिस की पकड़ से दूर था। एक साल पहले इसी के होटल से चार युवक और दो युवतियां पकड़े गए थे।


युरेशिया प्रतिनिधि

मेरठ। मेरठ के शास्त्री नगर सेंट्रल मार्केट व्यापार संघ के पूर्व महामंत्री विनोद अरोड़ा को एएचटीयू (एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट) ने साहिल होटल से गिरफ्तार कर लिया। विनोद अरोड़ा डेढ़ साल से जिस्मफरोशी के मामले में वांछित चल रहा था। पुलिस ने उसके साहिल होटल से से अनैतिक देह व्यापार पकड़ा था। विनोद अरोड़ा को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया।

जिस्मफरोशी कराने में किया था नामजद

18 जुलाई 2019 को नौचंदी थाने के शास्त्रीनगर स्थित होटल साहिल से पुलिस ने जिस्मफरोशी पकड़ी थी। मौके से चार ग्राहक और दो युवतियों को पकड़ा था। साथ ही होटल के मैनेजर और एक कर्मचारी को भी गिरफ्तार किया था। उस समय होटल स्वामी एवं व्यापारी नेता विनोद अरोड़ा भाग गया था। एएचटीयू ने विनोद अरोड़ा को भी जिस्मफरोशी कराने में नामजद किया था। एएचटीयू थाना प्रभारी ब्रिजेश शर्मा ने बताया कि शनिवार सुबह 11 बजे जैसे ही विनोद अरोड़ा होटल पहुंचे तो एएचटीयू की टीम ने उसे होटल के अंदर से गिरफ्तार कर लिया। हालांकि होटल स्टाफ ने विरोध किया था। समझाने के बाद स्टाफ मान गया था। विनोद अरोड़ा को होटल से एएचटीयू थाने लाया गया, जहां से मेडिकल कराने के बाद उसे कोर्ट में पेश किया। अदालत ने विनोद अरोड़ा को जेल भेज दिया।

सत्ता में पकड़ से डेढ़ साल तक बचता रहा विनोद

व्यापारी नेता विनोद अरोड़ा का सेंट्रल मार्केट में कपड़े का काम है। साथ ही साहिल होटल है। होटल के अंदर वह जिस्मफरोशी कराते थे, जिसके चलते कई बड़े अफसर और नेताओं का वह करीबी बना गया। डेढ़ साल पहले मुकदमा दर्ज होने के बाद भी अफसरों और सत्ता पक्ष के नेताओं के दबाव में पुलिस उस गिरफ्तार नहीं कर रही थी। आरोप पत्र दाखिल करने के बाद कोर्ट से विनोद का वारंट लेने के लिए पुलिस ने अर्जी डाली थी। तभी विनोद ने हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए अर्जी लगाई थी, जो निरस्त हो गई। इसके बाद विनोद ने कोर्ट में सरेंडर की अर्जी डाली, लेकिन इससे पहले ही एएचटीयू की टीम ने विनोद अरोड़ा को गिरफ्तार कर लिया।

सेंट्रल मार्केट बंद का विरोध करने पर व्यापारी हो गए थे खिलाफ

जागृति विहार के अमन जैन हत्याकांड में सेंट्रल मार्केट बंद का विरोध करने पर विनोद अरोड़ा की गिरफ्तारी का प्लान बन गया था। विनोद अरोड़ा बाजार खुलवाने में व्यापारी नेता किशोर वाधवा के साथ मौजूद था। तभी भाजपा नेताओं ने विनोद अरोड़ा पर होटल में जिस्मफरोशी करने के आरोप भी लगाए थे। उसी दिन से व्यापारियों का एक गुट चुपचाप तरीके से विनोद अरोड़ा की गिरफ्तारी का दबाव बना रहा था। यही कारण है कि डेढ़ साल से सोई पुलिस को अचानक ही विनोद अरोड़ा की गिरफ्तारी की याद आ गई।

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव