विनायक विद्यापीठ के छात्र रिकान्त नागर ने राज्य स्तर पर प्राप्त किया प्रथम स्थान

Image
प्रयागराज में आयोजित 54वीं उत्तर प्रदेश राज्य वार्षिक एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में जीता स्वर्ण पदक युरेशिया विनायक विद्यापीठ महाविद्यालय ने एक बार फिर जीत का परचम लहराकर राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया है। बीए द्वितीय वर्ष के छात्र रिकांत नागर ने प्रयागराज के मदन मोहन मालवीय स्पोर्ट्स स्टेडियम द्वारा आयोजित 54वीं उत्तर प्रदेश राज्य वार्षिक एथलेटिक्स प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन दिया है। रिकांत ने अंडर - 20 इवेंट में 110 हर्डल रेस में प्रथम स्थान प्राप्त कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। और 400 हर्डल रेस में कांस्य पदक हासिल किया। संस्थान के चेयरमैन डॉ सोमेंद्र तोमर हमेशा ही बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रयासरत रहते हैँ। वह स्वयं भी खेल कूद से जुड़े रहते हैँ व छात्र छात्राओं को भी प्रेरित करते हैँ। रिकांत के इस प्रदर्शन पर उन्होंने विशेष शुभकामनायें प्रेषित की। इस मौके पर संस्थान की प्राचार्या डॉ उर्मिला मोरल ने बुके व सर्टिफिकेट देकर रिकांत को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि वह बेहद गौरवान्वित महसूस करती हैँ ज़ब भी संस्थान के छात्र छात्रा विभिन्न क्षेत्रों में अपना उम्दा प्रदर्शन

मजदूरों के शव घर पहुंचते ही मची चीख-पुकार

  • पानीपत-खटीमा राजमार्ग पर सड़क हादसे में हुई थी तीन की मौत
  • गमगीन माहौल में शवों को किया सुपुर्द-ए-खाक



इकबाल हसन/युरेशिया

कैराना। सड़क हादसे का शिकार हुए तीनों मजदूरों के शव पोस्टमार्टम के उपरांत घर पहुंचे, तो परिजनों में चींख-पुकार मच गई। मृतकों के घरों पर मोहल्लेवासियों की भीड़ जमा हो गई। हादसे से हर कोई गमजदा

नजर आया। मृतकों के शवों को गमगीन माहौल में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

कैराना कस्बे के मोहल्ला आलखुर्द निवासी वसीम (24) पुत्र जमील, अकरम (40) पुत्र असलम व शाहरूख (20) पुत्र ताहिर की बाइक मंगलवार देर रात पानीपत-खटीमा राजमार्ग पर स्थित पंजीठ गांव के निकट हादसे का शिकार हो गई थी। तीनों हरियाणा के जनपद पानीपत के सनौली-कुराड़ स्थित कंबल फैक्ट्री में काम करते थे, जो फैक्ट्री से काम करने के बाद वापस अपने घर लौट रहे थे। 

इसी दौरान तेज रफ्तार डीसीएम द्वारा उन्हें अपनी चपेट में ले लिया गया था, जिसमें डीसीएम के नीचे कुचले जाने से तीनों की मौके पर ही मौत हो गई थी। सीओ जितेंद्र कुमार व कोतवाली प्रभारी निरीक्षक प्रेमवीर सिंह राणा पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे, जिन्होंने तीनों मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया था। बुधवार को तीनों मजदूरों के शव पोस्टमार्टम के उपरांत उनके घरों पर पहुंचे। शव पहुंचते ही परिजनों में चींख-पुकार मच गई तथा मोहल्ले में शोक की लहर दौड़ गई, जिसके बाद मोहल्लेवासियों की भीड़ मृतकों के घरों पर जमा हो गई। बाद में गमगीन माहौल में मृतकों के शवों को कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया है।

  • शादी की खुशियां छीनी तो गमों का पहाड़ भी टूटा

हादसे से मृतक के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। मृतक वसीम के परिवार में वह तीन भाई थे। वह सबसे छोटा था। पिता मजदूरी करते हैं। मृतक के दो मासूम बच्चे बताए जा रहे हैं। मृतक अकरम के तीन बच्चे हैं, एक लड़की व दो लड़के हैं। पिता नगरपालिका के कर्मचारी हैं। वहीं, मृतक शाहरुख तीन भाई थे। एक बहन हैं, जो शादीशुदा हैं। पिता की वर्षों पहले सामान्य मौत हो चुकी है। शाहरुख की आगामी दस जनवरी को शादी होनी थी। मृतक घर में सबसे छोटा था। इस हादसे ने जहां शादी की खुशियां छीन ली, वहीं मृतकों के परिवार पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा।

  • डीसीएम चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मंगलवार देर रात हुए हादसे में तीन मजदूरों की मौत हो जाने के मामले में कोतवाली पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मृतक शाहरुख के भाई नसीम ने डीसीएम चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। 

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक प्रेमवीर सिंह राणा ने बताया कि डीसीएम चालक हिरासत में हैं। मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। अग्रिम कार्यवाही की जा रही है।

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव