अब 22, 28 व 29 जनवरी को होगा वैक्सीनेशन

Image
वैक्सीनेशन अभियान में महिलाओं ने दिखाई सबसे ज्यादा हिम्मत  वैक्सीनेशन में डर के आगे आधी आबादी की जीत, लिखी नई इबारत युरेशिया संवाददाता मेरठ,। वैक्सीनेशन के साथ 16 जनवरी को कोरोना से अंतिम युद्ध का शंखनाद शुरू करने के बाद अब इस लड़ाई का पहला चरण 22 जनवरी शुक्रवार से शुरू होगा। इस संबंध में शासन की ओर से निर्देश जारी कर दिए गए हैं। 22 जनवरी के बाद वैक्सीनेशन की अगली तारीख 28 व 29 जनवरी तय की गयी है। जिले में 16 जनवरी को पहला वैक्सीनेशन किया गया। सबसे अच्छी बात यह रही कि जिले में वैक्सीनेशन करवाने वाले किसी भी लाभार्थी में साइड इफेक्ट के गंभीर लक्ष्ण नहीं मिले। 16 जनवरी को स्वास्थ्य विभाग से जुड़े चिकित्सकों, निजी चिकित्सकों व हेल्थ वर्कर्स का टीकाकरण किया गया। जिले में उस दिन टारगेट 694 में से 562 स्वास्थ्य कर्मियों का वैक्सीनेशन किया गया। जनपद में प्रथम चरण के लिए 19533 स्वास्थ्य कर्मियों को चयनित किया गया है। इसमें 9000 सरकारी और 10533 प्राइवेट लाभार्थी हैं। कोरोना वैक्सीनेशन कराने में महिला स्वास्थ्य कर्मियों का जिले में प्रतिशत 41.21 रहा। महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा और दम

राष्ट्रीय उर्जा संरक्षण दिवस’’ पर वेंक्टेश्वरा में ’’उर्जा संरक्षण-जल संरक्षण एवं पर्यावरण संरक्षण’’ विषय पर एकदिवसीय सेमीनार एवं ’’लघु नाटिका’’ का मंचन

  • -उर्जा संरक्षण एवं जल संरक्षण के बल पन देश बनेगा विश्वगुरू - डॉ0 सुधीर गिरि, चेयरमैन वेंक्टेश्वरा समूह
  • -सौर उर्जा एवं प्राकृतिक उर्जा के संसाधनों के उपयोग से देश आत्मनिर्भरता की ओर-डा0 (प्रो0) बी0एन0सिंह वरिष्ठ वैज्ञानिक/पूर्व निदेशक राष्ट्रीय सौर उर्जा संस्थान भारत सरकार
  • -वेंक्टेश्वरा ने कई विदेशी विश्वविद्यालयों के साथ सौलर एनर्जी इन्जीन्यरिंग, एवर्जी कन्जर्वेशन टैक्नोजलॉजी के यू0जी0 एवं पी0जी0 पाण्यक्रर्मों की पढाई का ’’शैक्षणिक अनुबन्ध’’ कर ’’उर्जा संरक्षण’’ की दिशा में किये कई महत्वपूर्ण कार्य - डॉ0 राजीव त्यागी, प्रतिकुलाधिपति श्री वैक्ंटेश्वरा विश्वविद्यालय/संस्थान


अनीस खान यूरेशिया ब्यूरो

मेरठ। दिल्ली रूडकी बाईपास स्थित वैंक्टेश्वरा संस्थान में आज ’’राष्ट्रीय उर्जा संरक्षण दिवस’’ पर एक दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया, जिसमें वक्ताओं ने एक सुर में कहा कि यदि देश को आर्थिक महाशक्ति एवं पूर्णरूप से आत्म निर्भर बनाना है, तो हमें ’’उर्जा उत्पादन’’ के साथ-साथ ’’उर्जा संरक्षण’’की दिशा में लगातार काम करना होगा। इस अवसर पर इन्जीनियरिंग के छात्र-छात्राओं ने ’’उजा है,-जल है, तभी तो बेहतर कल है’’ विषय पर लघुनाटिका प्रस्तुत कर ’’उर्जा सरंक्षण’’ का संदेश दिया।

वैंक्टेश्वरा में ’’राष्ट्रीय उर्जा संरक्षण दिवस’’ पर आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ समूह चेयरमैन डॉ0 सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डॉ0 राजीव त्यागी ने मॉं सरस्वती की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्जवलित करके किया। 

अपने सम्बोधन में समूह चेयरमैन डा0 सुधीर गिरि ने कहा कि यदि भारत को आर्थिक महाशक्ति एवं पूर्णरूप से आत्मनिर्भर बनाना है तो हमें ’’एनर्जी सेव ईज एनर्जी एर्न’’ के सिद्वान्त पर कार्य करके उर्जा को बचाना होगा। मुख्य वक्ता राष्ट्रीय सौर उर्जा संरक्षण के पूर्व निदेशक डा0 बी0एन0 सिंह ने कहा कि उर्जा संरक्षण, जल संरक्षण एवं पर्यावरण संरक्षण के द्वारा उर्जा के प्राकृतिक सोत्र, एवं सौर उर्जा के उपयोग से देश हर दिन आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर है।

प्रतिकुलाधिपति डॉ0 राजीव त्यागी ने कहा कि साउथ अफ्रीका समेत कई अफ्रीकन एवं यूरोपियन देशों में आज जल संकट एवं उर्जा संकट पैदा हो गया है। यदि हम समय रहते नही चेते तो दो दशक बाद हमारे देश में भी हालात भयावह होगें। उन्होने उपस्थित स्टाफ एवं छात्र-छात्राओं को उर्जा संरक्षण, जल संरक्षण एवं पर्यावरण संरक्षण की शपथ भी दिलायी।

कार्यक्रम को सी0ई0ओ0 डॉ0 डी0एन0राव, परिसर निदेशक डा प्रभात श्रीवास्तव एवं रजिस्ट्रार अशुतोष दिक्षित ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर उपनिदेशक दूरस्थ शिक्षा डॉ0 अलका सिंह, डा0 सुन्दर सिंह, दीपक कुमार, ब्रजपाल सिंह, विश्वास त्यागी, राहुल हाण्डा, रविन्द्रनाथ यादव एवं मीडिया प्रभारी विश्वास राणा आदि लोग उपस्थित रहे। कार्यक्रम का सफल संचालन उपनिदेशक दूरस्थ शिक्षा डॉ0 अलका सिंह ने किया।

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव