विनायक विद्यापीठ के छात्र रिकान्त नागर ने राज्य स्तर पर प्राप्त किया प्रथम स्थान

Image
प्रयागराज में आयोजित 54वीं उत्तर प्रदेश राज्य वार्षिक एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में जीता स्वर्ण पदक युरेशिया विनायक विद्यापीठ महाविद्यालय ने एक बार फिर जीत का परचम लहराकर राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया है। बीए द्वितीय वर्ष के छात्र रिकांत नागर ने प्रयागराज के मदन मोहन मालवीय स्पोर्ट्स स्टेडियम द्वारा आयोजित 54वीं उत्तर प्रदेश राज्य वार्षिक एथलेटिक्स प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन दिया है। रिकांत ने अंडर - 20 इवेंट में 110 हर्डल रेस में प्रथम स्थान प्राप्त कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। और 400 हर्डल रेस में कांस्य पदक हासिल किया। संस्थान के चेयरमैन डॉ सोमेंद्र तोमर हमेशा ही बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रयासरत रहते हैँ। वह स्वयं भी खेल कूद से जुड़े रहते हैँ व छात्र छात्राओं को भी प्रेरित करते हैँ। रिकांत के इस प्रदर्शन पर उन्होंने विशेष शुभकामनायें प्रेषित की। इस मौके पर संस्थान की प्राचार्या डॉ उर्मिला मोरल ने बुके व सर्टिफिकेट देकर रिकांत को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि वह बेहद गौरवान्वित महसूस करती हैँ ज़ब भी संस्थान के छात्र छात्रा विभिन्न क्षेत्रों में अपना उम्दा प्रदर्शन

लोनी सरकारी स्कूल में शिक्षा का खूबसूरत नजारा स्कूल की खस्ता हालत: भावना बिष्ट


आस मोहम्मद युरेशिया ब्यूरो चीफ

लोनी- शनिवार को सरकारी स्कूल की हालत देखने पहुँची आम आदमी पार्टी की जिला उपाध्यक्ष भावना बिष्ट  आज सुबह  शनिवार  11:45 बजे लोनी सादुल्लाबाद पहुंचीं। उनके दौरे में शामिल परमहंस विहार वार्ड8  प्राथमिक विद्यालय , मंगल बाजार  100 फूटारोड व विकास नगर वार्ड1 का सरकारी स्कूल रहा वही हम लोगों ने देखा है कि लोनी क्षेत्र में जितने भी सरकारी  स्कूल हैं उनमें गंदगी के अलावा कुछ नहीं है कहींदीवारें जर्जर है  तो पानी की व्यवस्था बिल्कुल भी नहीं है ,जहां एक तरफ  देश में कोरोना जैसी भयानक महामारी से जूझ रहा है , हिंदुस्तान के निर्माता छोटे छोटे बच्चे की सरकारी स्कूलों की स्थिति भी बहुत खराब होती नजर आई 

कई स्कूलों में तो पानी की टंकी भी नहीं है और पानी की टंकी भी है तो वह सीमेंट की टंकी बनाई गई है वह भी जर्जर हम लोगों  ने देखा की उसके अंदर  कीड़े मकोड़े वह जहरीले सांप घुस सकते हैं और आगे चलकर बच्चें बच्चियों को कुपोषण की परेशानियों को भी झेलना पड़ सकता है यही उत्तर प्रदेश मैं सरकारी स्कूलों की स्थिति है वहीं सरकार स्कूल मैं दीवारों पर लिखा है स्वच्छ भारत अभियान व नारा दिया है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ लेकिन जब स्कूल ही सही नहीं होंगे 

तो उज्ज्वल हिंदुस्तान का निर्माण कैसे होगा ?

प्राथमिक व जूनियर हाई स्कूल हैं।  लेकिन बहुत गहरे स्कूल है  यदि स्कूलों में बारिश के टाइम पर जलभराव  हो जाता है तो पानी निकालने की निकासी बिल्कुल भी नहीं है  कई कई दिनों तक बच्चे  स्कूल में  आने के लिए या समर्थ हो जाते हैं वहीं हमने कई पैरंट्स से बात की तो पेरेंट्स कहना है कि स्कूल में सिर्फ खिचड़ी और दलिया बटता है पढ़ाई के नाम पर सिर्फ जीरो है टीचर आते हैं लेकिन हाथ पर हाथ धरे बैठे रहते हैं हम अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल में भेजते हैं इतनी महंगी महंगी फीस होती है और हमें मजबूरन वह फीस उन लोगों को देनी पड़ती है वही दिल्ली जैसे सरकारी स्कूल हमारे यूपी में होते तो हम अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में भेजत   शिक्षा के नाम पर कागजों में ही कार्रवाई होती है जमीनी स्तर पर नहीं

पूरी दीवार टूटी हुई नजर आई. ऐसी काम चलता रहेगा तो हमारे यूपी में लड़कियां वह लड़के कैसे पढ़ पाएंगे अरुण गुप्ता जिला कार्यकारिणी सदस्य , करण शर्मा लोनी विधानसभा कार्यकारिणी सदस्य राशिद सिद्दीकी लोनी विधानसभा सचिव परवीन शर्मा

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव