केंद्र सरकार अड़ियल रुख छोड़ देश के अन्नदाता की बात को माने: अख्तर सलमानी


कामिल खान 

जालंधर : पंजाब कांग्रेस कमेटी माइनॉरिटी डिपार्टमेंट के पंजाब महासचिव अख्तर सलमानी ने कहा कि देश की राजधानी बीते कुछ दिनों से किसानों से घिरी हुई है अन्नदाता किसानी खेती छोड़ इस वक्त दिल्ली में अपनी हितों की रक्षा के लिए एकजुट हुए हैं , केंद्र सरकार द्वारा पारित किसान विरोधी कृषि अधिनियम के खिलाफ आंदोलन  हो रहा है जिसमें पंजाब सहित उत्तर भारत के लाखों किसान शामिल है जनाक्रोश को देखते हुए केंद्र सरकार ने इस वक्त जो बातचीत का पासा फेंका है उस पर बात करते अख्तर सलमानी ने कहा कि अब किसानों को आश्वासन का झुनझुना नहीं चाहिए, यह आंदोलन नहीं बल्कि किसान क्रांति है, दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का काफिला पहुंचा तो पता चला कि उन्हें रोकने के लिए चारों ओर से दिल्ली आर्मी का पहरा बिछा दिया गया, लेकिन अबकी बार वे मरने से भी पीछे नहीं हटेंगे सर्दी में हम पर वाटर कैनन से भिगोया गया, आंसू गैस के गोले दागे गए, पानी की बौछारें छोड़ी गई, किसानों पर लाठियां तक भांजी गई, शर्म आनी चाहिए केंद्र सरकार को किसान देश का अन्नदाता है, वह आपसे अपना हक हकूक मांग रहे हैं कोई भीख नहीं, बस इतना समझ लेना किसान इस बार दिल्ली से खाली हाथ नहीं लोटेंगे, किसानों की अनदेखी इस बार केंद्र सरकार को बहुत भारी पड़ सकती है तीनों काले कानून किसानों के हक में नहीं इसीलिए व केंद्र सरकार से अपील करते हैं कि वह तुरंत किसानों की बातें मान ले और उनका बनता हक उन्हें अदा करें ,ताकि किसान अपना कर्ज अदा अदा कर सकें और किसान को न्याय मिले इस अवसर पर सीनियर वाइस चेयरमैन करतारपुर हाशिम अल्वी, एकता मंच के प्रधान मुस्तकीम अहमद, शादाब अंसारी, सलीम अहमद, इमाम कारी इमरान साहब, मुनीर अहमद कुरेशी मौजूद रहे

Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट