’पराक्रम दिवस (नेताजी सुभाषचन्द्र बोस जयन्ती 23 जनवरी) की पूर्व संध्या पर वेंक्टेश्वरा में ’’नेताजी एक वैचारिक क्रान्ति’’ विषय पर सेमीनार एवं उनके स्वतन्त्रता संघर्ष पर ’’विशाल पोस्टर प्रर्दशनी’’

Image
नेताजी के संघर्ष से मिली अनमोल आजादी को व्यर्थ ना जाने दे युवा- डाॅ0 सुधीर गिरि  आजादी की जंग में निर्विवाद रुप से नेता जी से बड़ा कोई पराक्रमी नहीं- कर्नल अमरदीप त्यागी देश की आजादी के लिए नेताजी का संघर्ष एवं पराक्रम समूचे भारत के लिए वन्दनीय- डाॅ0 बी0एन0 पाराशर युवाओ/छात्रो को नेताजी के जीवन दर्शन एवं संघर्ष गाथा बताने के लिए संस्थान ने अपने पुस्कालय में किया 500 से अधिक पुस्तको का संग्राहलय- डाॅ0 राजीव त्यागी  अनीस खान/ युरेशिया  मेरठ।आज राष्ट्रीय राजमार्ग बाईपास स्थित वेंक्टेश्वरा विश्वविद्यालय/संस्थान में नेताजी सुभाषचन्द्र बोस जयन्ती (पराक्रम दिवस 23 जनवरी) की पूर्व संध्या पर देश की आजादी के सबसे बड़े महानायक आजाद हिन्द फौज के संस्थापक नेताजी के बलिदान को याद करते हुए ’’नेताजी एक वैचारिक क्रान्ति’’ विषय पर सेमीनार का आयोजन हुआ, जिसमें वक्ताओ ने आजादी के लिए नेताजी की संघर्ष गाथा पर सिलसिलेवार प्रकाश डालते हुए इस महान योद्धा की पराक्रम गाथा से उपस्थित स्टाॅफ एवं छात्र-छात्राओ को रुबरु कराया। इसके साथ ही विख्यात शिक्षाविद् एवं आजाद हिन्द सेना मंच से जुड़े डाॅ0 बी0एन0 पाराशर के निर्दे

हेडमास्टर दिखाता था मासूम बच्चियों को स्कूल में पॉर्न, करता था रेप


नई दिल्ली |  तेलंगाना में भद्राद्री कोथागुडेम जिले के एक सरकारी प्राथमिक विद्यालय के हेडमास्टर पर बच्चियों से रेप के आरोप लगे हैं। आरोप है कि अगस्त से अब तक स्कूल के अंदर 7 से 11 साल की उम्र की पांच लड़कियों के साथ बार-बार बलात्कार किया है। स्थानीय पुलिस ने आईपीसी की धारा 376 और POCSO अधिनियम के तहत उसके खिलाफ मामला दर्ज किया है। फिलहाल आरोपी फरार है।

पुलिस ने कहा कि लड़कियों के साथ रेप करने से पहले, 40 वर्षीय आरोपी ने उन्हें पोर्न देखने के लिए मजबूर किया और बाद में धमकी दी कि अगर उन्होंने इस बारे में किसी तो बताया तो वो उन्हें छोड़ेगा नहीं। यह घटना तब सामने आई जब बचे पीड़ितों में से एक- कक्षा 2 में पढ़ने वाली एक सात वर्षीय लड़की हाल ही में बीमार हो गई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। लक्ष्मीदेवपल्ली के सब-इंस्पेक्टर अंजिया ने कहा, इलाज के दौरान, उसने अपनी मां को सारी बात बताई।

एस आई ने बताया कि इसके बाद में यह पाया गया कि हेडमास्टर ने उसी स्कूल की एक नहीं बल्कि चार अन्य छात्राओं के साथ बलात्कार किया था। “लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद हेडमास्टर समेत शिक्षक रोटेशन पर स्कूल जा रहे थे क्योंकि नियमित कक्षाएं संचालित नहीं की जा रही थीं। जब भी आरोपी ड्यूटी पर होता, तो वह किसी एक लड़की को पढ़ाने के बहाने उसके घर से अपने साथ ले जाता और बलात्कार करता। पीड़िता की मां ने बताया उनकी बेटी स्कूल जाने से कतराती थी जिसका कारण अब समझ आ रहा है।

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव