ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रॉलो से हो सकता है बड़ा हादसा

Image
थाने के सामने ट्रैक्टर ट्राला से लगा लंबा जाम। डॉ असलम/यूरेशिया बहसूमा। नगर में ओवरलोड वाहनों पर नहीं लग रहा अंकुश चीनी मिल में सेंट्रल से गन्ना लाने वाले ओवरलोड ट्रैक्टर ट्रॉली नगर में कभी भी बड़े हादसे को आमंत्रित कर सकते हैं नगर के मवाना रामराज रोड मार्ग पर पड़ने वाले सेंटर से मिल में गन्ना जाता है लेकिन ओवरलोड होने के कारण जहां जाम की समस्या रहती है और लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है कई बार दुर्घटना भी हो चुकी है ओवरलोड वाहनों पर अंकुश नहीं लग पा रहा है हालांकि पहले सैंटरो  से गन्ना ट्रक से उठाया जाता था। लेकिन अब सेंटर  से गन्ना  ट्रैक्टर  टोला से उठाया  जा रहा है  जिसमें  लगभग वजन  350  कुंटल  के करीब  होता है  जो  बहुत  अधिक है जो  दुर्घटना  को आमंत्रित करता है। संयुक्त व्यापार संघ एसोसिएशन के कई बार अधिकारियों को ज्ञापन देकर ओवरलोड वाहनों पर अंकुश लगाने की मांग कर चुके हैं लेकिन इस और ध्यान नहीं दिया गया इस मामले में थाना प्रभारी शिवदत्त ने बताया कि 2 दिन पूर्व कुछ ओवरलोड ट्रैक्टरों के चालान भी किए जा चुके हैं ओवरलोड वाहनों पर जल्द ही अंकुश लगाया जाएगा

टीएमयू में मैटेरियल्स एंड डिवाइसेज पर होगी दो दिनी नेशनल वेबिनार

  • वेबिनार का श्रीगणेश 18 दिसंबर से, देशभर के भौतिकी शिक्षाविद साझा करेंगे अपने अनुभव 


युरेशिया संवाददाता

तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी में देशभर के भौतिक शिक्षाविद  मैटेरियल एंड डिवाइसेज पर मंथन करेंगे। यूनिवर्सिटी के एफओईसीएस के भौतिकी विभाग की ओर से आयोजित इस नेशनल वेबिनार का शुभारम्भ 18 दिसंबर से होगा। इस संगोष्ठी में पॉलीमर मैटेरियल्स, नैनो मैटेरियल्स, कैपिसिटर, सेंसर, सेमी कंडक्टर, सोलर सेल, क्रिस्टल स्ट्रक्चर, एल्वाज सरीखे मैटेरियल्स  पर शोधपरक विचार प्रस्तुत किए जाएंगे। संगोष्ठी के शुभारभ्म सत्र के अलावा चार साइंटिफिक एवं टेक्निकल सत्र होंगे, जिनमें 50 से अधिक शोध पत्र प्रस्तुत किए जाएंगे। संगोष्ठी में टीएमयू समेत देशभर के रिसर्च स्कॉलर्स भी शामिल होंगे। इनमें से दो उत्कृष्ट शोध पत्रों को पुरस्कृत किए जाएगा। वेबिनार के को-पैट्रन एवं एफओईसीएस के निदेशक प्रो. राकेश कुमार द्विवेदी ने उम्मीद जताई, यह वेबिनार भौतिकी विभाग के शोधार्थियों के लिए मील का पत्थर साबित होगी। 

एफओईसीएस के भौतिकी विभाग के एचओडी डॉ. अमित कुमार शर्मा एवं वेबिनार के कन्वीनर प्रो. एसपी पाण्डेय ने यह जानकारी देते हुए बताया, दो दिनी संगोष्ठी में यूपी के अलावा  पश्चिम बंगाल, ओडिशा, बिहार, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक के शिक्षाविद शिरकत करेंगे। केआईआईटी यूनिवर्सिटी, भुवनेश्वर के इलेक्ट्रॉनिक विभाग के प्रो. यूपी सिंह, बीएचयू भौतिक विभाग के प्रो. भास्कर भट्टाचार्य, जेआईआईटी, नोएडा, भौतिक विभाग के एचओडी  प्रो. डीके राय, वैंकटेश्वर यूनिवर्सिटी, तिरुपति के भौतिकी विभाग, थीन फिल्म लैब के प्रो. ओएम हुसैन, निम्स यूनिवर्सिटी, राजस्थान के भौतिकी विभाग के निदेशक प्रो. एसके पांडे, एमिटी यूनिवर्सिटी के एप्लाइड साइंस के प्रो. जीएन पांडे, स्टेट यूनिवर्सिटी, न्यूयॉर्क के डॉ. एन एडुकोंडालू, शारदा यूनिवर्सिटी के भौतिकी विभाग के एचओडी प्रो. प्रमोद कुमार सिंह, विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र, केरल की डॉ. टी. रम्यामोल, वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी, बिहार की डॉ. मधुलता शुक्ला, एमएम यूनिवर्सिटी, हरियाणा के डॉ. राजीव सेहरावत आदि वर्चुअली अपने शोध पत्र प्रस्तुत करेंगे। 

इस राष्ट्रीय वेबिनार में पदार्थ की गुणवत्ता और उससे बनने वाले उपकरणों को लेकर शिक्षाविद विस्तार से चर्चा करेंगे। देश के जाने-माने मैटेरियल्स वैज्ञानिक नेनो मैटेरियल्स, ग्रीन एनर्जी मैटेरियल्स, सोलर एनर्जी मैटेरियल्स, फ्यूल सेल मैटेरियल्स, पॉलीमर मैटेरियल्स  और ऑप्टिकल मैटेरियल्स के बारे में विस्तार से प्रकाश डालेंगे। संगोष्ठी में इंटर यूनिवर्सिटी त्वरण केंद्र, नई दिल्ली के अवकाश प्राप्त वैज्ञानिक डॉ. देवेश कुमार अवस्थी, हिन्दू कॉलेज, मुरादाबाद के भौतिकी विभाग के एचओडी प्रो. मुकुल किशोर, दिल्ली यूनिवर्सिटी के भौतिकी विभाग के प्रोफेसर एस.ए हाशमी, महिला महाविद्यालय भौतिकी विभाग, बीएचयू की विभागाध्यक्ष प्रो. नीलम श्रीवास्तव आदि खास मेहमान होंगे। गोरखपुर यूनिवर्सिटी के भूतपूर्व प्रो. एनवी सिंह ग्रीन एनर्जी नैनो मैटेरियल्स और उसके प्रयोग के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। 

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव