वेंक्टेश्वरा में ’’राष्ट्रीय बालिका दिवस’’ पर ’मातृशक्ति सम्मान समाराह’ एवं ’बेटी बचाओ-बेटी पढाओ’’ शपथ समारोह

Image
जिस देश में कन्या को दुर्गा के रुप में पूजा जाता है, वहां कन्या भ्रूण हत्या सिर्फ एक कानूनी अपराध नहीं बल्कि एक राष्ट्रीय अभिशाप-डाॅ0 सुधीर गिरि  आज हम मातृशक्ति को सम्मानित करते हुए खुद को गौरान्वित महसूस कर रहे है- डाॅ0 राजीव त्यागी अनीस खान यूरेशिया ब्यूरो मेरठ। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर राष्ट्रीय राजमार्ग बाईपास स्थित वेंक्टेश्वरा संस्थान में अलग-अलग क्षेत्रो में उल्लेखनीय/उत्कृष्ट कार्य करने वाली 22 छात्राओ एवं महिला शिक्षिकाओ को स्मृति चिन्ह एवं पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रतिकुलाधिपति डाॅ0 राजीव त्यागी ने उपस्थित स्टाॅफ एवं छात्र-छात्राओ को ’’बेटी बचाओ-बेटी पढाओ’’ की शपथ दिलाकर सभी से ’’महिला सशक्तिकरण अभियान के महाकुम्भ में अपना सक्रिय योगदान देने की अपील की। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर ’’वेंक्टेश्वरा संस्थान के अब्दुल कलाम आजाद सभागार में ’’मातृशक्ति सम्मान समारोह एवं ’’बेटी बचाओ-बेटी पढाओ शपथ समारोह का शुभारम्भ विश्वविद्यालय के चेयरमैन डाॅ0 सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डाॅ0 राजीव त्यागी, कुलपति प्रो0 पी0 के0 भारती, नर्सिंग प्रिंसीपल डाॅ0 एना ब्राउन ने सरस्वती माँ

अब एक व्यक्ति रख सकेगा केवल 2 ही असलहें

  • 13 दिसंबर के बाद तीसरा असलहा रखना होगा पूरी तरह से अवैध


(अरविन्द सिसौदिया) 

नानौता (सहारनपुर) , यह खबर उन असलहा रखने वालों के लिए है जिनके पास तीन अलसहंे है और आपने अभी तक तीसरा असलहे को सरेंडर नहीं किया है तो आपके पास असलहा सरेंडर करने के लिए मात्र दो ही दिन शेष बचे है। ऐसा न करने वाले शस्त्रधारक के खिलाफ सख्त कारवाई अमल में लाई जाएगी। 

केन्द्र सरकार द्वारा गत 28 नवंबर 2019 को किए गए आर्म्स एक्ट के नए संशोधन के अनुसार अब एक व्यक्ति केवल दो ही शस्त्र अपने पास रख सकता है। यदि आपके पास तीन असलहे है तो 13 दिसंबर से पहले शस्त्र धारक को अपना तीसरा शस्त्र लाइसेंस जमा या सरेंडर करना अनिवार्य होगा। यदि निर्धारित तारीख तक आपने तीसरा शस्त्र जमा या सरेंडर नहीं किया तो प्रशासन उसे अवैध मानते हुए संबधिंत शस्त्र धारक के खिलाफ कानूनी कारवाई करेगा। प्रशासन ने इस संबध में पूर्व में ही सभी अफसरों और पुलिस को दिशा-निर्देश जारी कर रखे है। 

असलहे नवीनीकरण का समय तीन के बजाएं 5 वर्ष -

अभी तक आर्म्स एक्ट 1959 के अनुसार एक व्यक्ति अधिकतम तीन असलहे रख सकता था। लेकिन नए संशोधन एक्ट के अनुसार अब एक व्यक्ति केवल 2 ही शस्त्र रख पाएगा। पूरे सहारनपुर जिले में करीब 17 हजार 327 असलहंे है। जिसमें नानौता थाना क्षेत्र में 611 असलहें लाइसंेस नंबर दर्ज है। हांलाकि नए संशोधन एक्ट में शस्त्रधारकों को नवीनीकरण को लेकर राहत भी प्रदान की गई है। इसके तहत अब असलहें नवीनीकरण तीन वर्ष के स्थान पर 5 वर्ष में कराना होगा।


Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव