मंगलवार सुबह 11 से 3 बजे तक होगा 'शांतिपूर्ण' भारत बंद


नई दिल्ली: : कृषि कानून (Farm law) के विरोध में किसानों के आंदोलन को ट्रेड यूनियनों और विपक्षी पार्टियों के समर्थन के बीच कल यानी मंगलवार को 'भारत बंद' (Bharat Bandh)के दौरान दिल्‍ली में फल, सब्जियों सहित कल प्रमुख सेवाओं की सप्‍लाई प्रभावित होने की आशंका है. गौरतलब है कि देश की राजधानी इस समय किसानों के आंदोलन का केंदबिंदु बनी हुई है और यहां हजारों की संख्‍या में किसान डेरा डाले हुए हैं. केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ हजारों किसान पिछले 11 दिन से आंदोलन कर रहे हैं. किसानों के अनुसार, शांतिपूर्ण भारत बंद सुबह 10 बजे से दोपहर तीन बजे तक होगा.

कोविड दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित हो
बंद को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने देशव्यापी परामर्श में कहा है कि राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासकों को सुनिश्चित करना चाहिए कि कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन किया जाए और सामाजिक दूरी बनाए रखी जाए। बता दें कि कांग्रेस, एनसीपी, द्रमुक, सपा, टीआरएस जैसे दलों ने बंद का समर्थन किया है।

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि मंत्रालय की ओर से जारी परामर्श में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को बताया गया है कि आठ दिसंबर को होने वाले ‘भारत बंद’ के दौरान शांति व्यवस्था व धैर्य बनाए रखा जाए और एहतियाती कदम उठाए जाएं ताकि देश में कहीं भी अप्रिय घटना नहीं हो। 

  • इन सेवाओं पर रहेगी रोक

  1. तीन राज्यों हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में सभी मंडियां बंद रहेंगी। 
  2. सुबह आठ बजे से लेकर शाम तीन बजे तक चक्का जाम रहेगा।
  3. यातायात सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। बस और रेल से यात्रा करने वाले यात्रियों को परेशानी हो सकती है
  4. आवश्यक चीजों जैसे दूध, फल और सब्जी पर रोक रहेगी। 

  • इन सेवाओं को मिलेगी बंद से छूट

  1. एंबुलेंस और आपातकालीन सेवाएं जारी रहेंगी 
  2. मेडिकल स्टोर खोले जा सकते हैं
  3. अस्पताल सामान्य दिनों की तरह खुले रहेंगे
  4. शादियों पर कोई पाबंदी नहीं

Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट