केनरा बैंक(पूर्व सिंडिकेट) की ब्रांच का हुआ शुभारंभ

Image
फोटो परिचय:-शुभारंभ करते हुए रीजनल मैनेजर देवराज सिंह  डॉ असलम यूरेशिया बहसूमा। नगर के हसापुर रोड पर केनरा बैंक सिंडिकेट की ब्रांच स्थानांतरण करने के बाद शुभारंभ किया गया। शुभारंभ करने के बाद रीजनल मैनेजर देवराज सिंह ने कहा कि केनरा बैंक की नई जगह ब्रांच खोलने से ग्राहकों को परेशानी का सामना करना नहीं पड़ेगा। आसानी से अपना पैसा जमा या निकाल सकते हैं। अलग-अलग जमा करने एवं निकालने की डेक्स बनाई गई है। जिससे ग्राहकों को आसानी से पैसा जमा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 114 वर्ष पूर्व हमारे संस्थापक अंबेबल सुब्बाराव पई मंगलूर कर्नाटक में एक संस्थान की न्यू रखी गई जो कि आज भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है और 1910 में केनरा बैंक के रूप में पल्लवित हुआ। उन्होंने कहा कि सुब्बाराव पई एक महान मानव प्रेमी होने के साथ-साथ समाजसेवी भी थे। जिनके विचारों में एक अच्छा बैंक ने केवल समाज का वित्तीय हृदय होता है। उन्होंने कहा कि केनरा बैंक की 10403 शाखाएं और 13406 एटीएम जो 8.48.00.000 लोगों से ज्यादा बढ़ते आधार की सभी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। विदेश में बैंक की 8 शाखाएं हैं। डिविजनल मैनेजर अनुर

विद्यालय प्रबंध समिति की बैठक हुई संपन्न





  •  सदस्यों एवं अभिभावकों ने शिक्षकों के कार्यों की किया सराहना



युरेशिया संवाददाता


बांदा। अंग्रेजी माध्यम प्राथमि यक्षक विद्यालय पचोखर-2 की प्रबंध समिति की मासिक बैठक संपन्न हुई। उपस्थित सदस्यों एवं अभिभावकों ने विद्यालय विकास की रूपरेखा तय करते हुए शिक्षकों के कार्य व्यवहार की सराहना की। नोडल अधिकारी के रूप में एआरपी विनोद पटेल ने मार्गदर्शन किया।


 बेसिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत सभी विद्यालयों में माह के पहले बुधवार को प्रबंध समिति की बैठक आयोजित किये जाने के क्रम में 4 नवंबर को अंग्रेजी माध्यम प्राथमिक विद्यालय पचोखर -2 में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए विद्यालय प्रबंध समिति की मासिक बैठक संपन्न हुई। प्र.अ. सचिव प्रमोद दीक्षित ने सभी का स्वागत करते हुए हाथ सेनीटाईज कराये और गत बैठक की कार्यवाही प्रस्तुत की तथा आज की बैठक का एजेंडा पढ़कर सदस्यों से विचार व्यक्त करने का अनुरोध किया। सभी  सदस्यों ने कोरोना संकट के बावजूद विद्यालय के शिक्षकों द्वारा किए जा रहे कार्यों एवं अभिभावकों से संपर्क करने की सराहना करते हुए कहा कि जब से प्रमोद दीक्षित प्रधानाध्यापक के रूप में आए हैं तब से विद्यालय की व्यवस्थाएं मजबूत हुई हैं और कक्षा शिक्षण भी सुरुचिपूर्ण हुआ है।विद्यालय को आकर्षक बनाने के लिए शिक्षकों द्वारा काफी काम किया गया है जिसमें विभिन्न कक्षा कक्षों में शैक्षिक चित्र बनवाए गए हैं। वाइट बोर्ड भी लगवा दिया गया है। गत वर्ष विद्यालय में एक भी पेड़ पौधा नहीं था लेकिन इस एक साल में विद्यालय में तमाम पेड़-पौधों के कारण परिसर हरा भरा आनंददायी दिखाई देता है। समिति सदस्य शिवबरण ने कहा कि प्रधानाध्यापक विद्यालय अनुदान का उपयोग समिति के बैठक करके सबकी राय और सुझाव को लेकर करते हैं। श्रीकांत मिश्रा ने कहा कि अब बच्चों में स्कूल आने का आकर्षण बढ़ा है क्योंकि प्रमोद दीक्षित घर-घर जाकर अभिभावकों एवं बच्चों से संपर्क करते हैं और उनकी समस्या सुनकर समाधान बताते हैं। सदस्य श्रीमती संगीता त्रिपाठी ने कहा कि दीक्षित सर के आने के बाद बच्चों में साफ-सफाई एवं स्वच्छता के संबंध में जागरूकता आई है। सदस्य सविता देवी ने कहा कि इस वर्ष विभाग द्वारा प्राप्त यूनीफार्म एवं पुस्तकों का वितरण कर दिया गया है। शिक्षक घरों में सम्पर्क करके बच्चों को काम दे देते हैं। अभिभावक धर्मेंद्र ने बरसात में विद्यालय की टपकती छत की मरम्मत एवं छोटी चहारदीवारी को ऊंचा करवाने का कायाकल्प अंतर्गत अनुरोध किया। 


           बैठक में बीआरसी महुआ से पधारे एआरपी विनोद कुमार पटेल ने उपस्थित सदस्यों एवं अभिभावकों का मार्गदर्शन करते हुए मिशन प्रेरणा की जानकारी दी और कहा कि ई-पाठशाला के माध्यम से शैक्षिक सामग्री भेज कर बच्चों की पढ़ाई जारी है। रेडियो एवं दूरदर्शन से भी बच्चों हेतु कार्यक्रम प्रसारित किए जा रहे हैं। प्रेरणा लक्ष्यों को हासिल कर हमको अपना ब्लॉक और जिला को प्रेरक बनाना है ताकि उत्तर प्रदेश प्रेरक प्रदेश के रूप में अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकें। बैठक में संतोष, विष्णुकांत, सीमा, संजय उपाध्याय, ज्ञानेंद्र आदि उपस्थित रहे। प्र.अ. प्रमोद दीक्षित ने  अपनी पुस्तक "हाशिए पर धूप" भेंट कर सभी का आभार व्यक्त किया।


 

 




 

2 Attachments


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां