मेरठ के छात्र आंदोलनों में बड़ी भूमिका निभाने वाले डॉ ज्ञानेंद्र शर्मा का कोरोना से निधन



युरेशिया संवाददाता

मेरठ। युवा नेताओं को राजनीतिक रोशनी दिखाने वाले पूर्व छात्र नेता प्रोफेसर डा0 ज्ञानेंद्र शर्मा का कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया। डा0ज्ञानेंद्र शर्मा मेरठ कालेज में इतिहास विभाग में प्रोफेसर थे। डा0ज्ञानेंद्र शर्मा पिछले कई दिनों से कोरोना संक्रमण से जूझ रहे थे। वे शुगर से भी पीड़ित थे। पुराने कांग्रेसियों में शुमार डा0ज्ञानेंद्र शर्मा कुछ वर्ष पूर्व रालोद में शामिल हो गए थे। रालोद से ज्ञानेंद्र शर्मा ने मेयर का चुनाव भी लड़ा था। मेरठ की छात्र राजनीति में अग्रणी भूमिका निभाने वाले डा0ज्ञानेंद्र शर्मा ने युवा नेताओं को राजनीतिक रोशनी दिखाई और हमेशा छात्र आंदोलन में अग्रणी और सार्थक भूमिका निभाते रहे। प्रोफ़ेसर डॉक्टर ज्ञानेन्द्र शर्मा का आकस्मिक से जिले के राजनीतिज्ञों और संभ्रात लोगों ने दुख प्रकट किया है।

मंडल कमीशन में निभाई थी मुख्य भूमिका :-

देश में आरक्षण लागू होने के दौरान जब पूरे देश में युवाओं ने उग्र प्रदर्शन किए थे। उस दौरान डा0ज्ञानेंद्र शर्मा एनएएस डिग्री कालेज के छात्र संघ अध्यक्ष थे। डा0 ज्ञानेंद्र के नेतृत्व में मेरठ में छात्रों ने आंदोलन को धार दी थी। डा0 ज्ञानेंद्र ने इस आंदोलन में अग्रणी भूमिका निभाई थी और जेल भी गए थे। छात्रों राजनीति के हितैशी डा0 ज्ञानेंद्र के संबंध देश के प्रमुख छात्र नेताओं से रहे। जदयू के केसी त्यागी हो या फिर मेरठ कालेज में छात्र संघ की राजनीति से अपना राजनैतिक करियर शुरू करने वाले सत्यपाल मलिक सभी से डा0 ज्ञानेंद्र की नजदीकियां रहीं। डा0 ज्ञानेंद्र शर्मा की मां की गिनती जिले के प्रमुख कांग्रेसियों में गिनी जाती थी।

Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट