प्रदेश के पर्यावरण व जलमंत्री ने किया शिक्षिका डा.सुमन को सम्मानित

Image
युरेशिया संवाददाता हापुड़। गणतंत्र दिवस पर उ.प्र. सरकार में पर्यावरण व जल राज्य मंत्री में शिक्षा के प्रति जागरूक करनें के लिए शिवा प्राथमिक पाठशाला की प्रधानाध्यापिका डॉ.सुमन अग्रवाल को  स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।     हापुड़ के  बुलन्दशहर रोड़ स्थित जेएमएस वर्ड स्कूल में गणतंत्र दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में योगदान देनें वाली हस्तियों को सम्मानित किया गया।     इसी क्रम में शिक्षा के क्षेत्र में बच्चों व अभिभावकों को शिक्षा के प्रति जागरूक करनें पर उ.प्र. सरकार में पर्यावरण व जल राज्य मंत्री अनिल शर्मा ने हापुड़ नगर क्षेत्र की प्रधानाध्यापिका डॉ.सुमन अग्रवाल  को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इसके अलावा पूर्व चेयरमेन मालती भारती,उम्मीद एनजीओ संचालित गरिमा ,शिक्षिका श्वेता मनचंदा सहित अन्य हस्तियों को भी सम्मानित किया गया।

विश्व नमस्कार दिवस: नमस्कार का चमत्कार: स्वामी चिदानन्द सरस्वती

  • "नमस्कार’ शान्ति की ओर पहला कदम  ’’नमस्कार’’ मेरी संस्कृति मेरा गौरव


युरेशिया संवाददाता
ऋषिकेश। आज विश्व नमस्कार दिवस के अवसर पर परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि ’’शक्ति का उपयोग करने के बजाय अभिवादन संस्कार के माध्यम से संघर्षों को हल करना ही आज के दिन का उद्देश्य है।’’ शांति को बढ़ाने के लिये व्यक्तिगत प्रयासों के महत्व की अभिव्यक्ति का संदेश देता है विश्व नमस्कार दिवस। आज के दिन हर व्यक्ति कोशिश करे कि कम से कम दस लोगों का अभिवादन कर आपसी संघर्षों को हल करने तथा शान्ति को बढ़ाने में अपना योगदान प्रदान करे।
स्वामी जी ने कहा कि हाथ जोड़कर नमस्कार करने का तात्पर्य संस्कार, सम्मान, संवाद और शान्ति की स्थापना से है। चेहरे पर मुस्कान के साथ हाथ जोड़कर व सिर झुकाकर अभिवादन करना ही तो भारत की संस्कृति है, जो दर्शाती है कि हमारा व्यवहार दूसरों के प्रति मित्रवत है, हम शान्तिपूर्ण वार्तालाप के लिये तैयार है तथा हम प्रेम के साथ दूसरों से जुड़ना चाहते हैं।
स्वामी जी ने कहा कि ’नमस्कार’ केवल एक शब्द नहीं बल्कि इसमें पूरी दुनिया को प्यार और अपनत्व के साथ जोड़ने की शक्ति है। आज का दिन आपसी मतभेदों को भूलाकर शान्ति के साथ आगे बढने का अवसर देता है। ’नमस्कार’ में अद्भुत शक्ति है, अगर हम किसी अजनबी का अभिवादन करंें तो उनका हृदय अपार श्रद्धा और प्रेम से भर जाता है। मुझे तो लगता है दुनिया में शान्तिपूर्ण बदलाव का मार्ग प्रशस्त करता है नमस्कार। वैसे तो लोग चमत्कार को नमस्कार करते है, लेकिन नमस्कार के चमत्कार को भूल जाते है परन्तु कोरोना ने हमें बता दिया नमस्कार को चमत्कार।
स्वामी जी ने कहा कि कोरोना वायरस ने भारतीय संस्कृति की अभिवादन पद्धति को वैश्विक स्तर पर साझा करने और उसके महत्व को समझने का एक अवसर दिया है। मेरा मानना है कि ’नमस्कार’ शान्ति और सद्भावना का प्रतीक है, अगर एक व्यक्ति दस व्यक्तियों को नमस्कार करता है तो यह चेन (चक्र) वैश्विक स्तर पर शान्ति की स्थापना का एक माध्यम बन सकती है। जिस प्रकार आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अंधा बना सकती है उसी प्रकार दोनों हाथ जोड़कर किया गया अभिवादन पूरी दुनिया को अपना बना सकता है। आईये संकल्प लें कि प्रतिदिन कम से कम दस लोगों का दिल से अभिवादन करेंगे। हमारा यह छोटा सा प्रयास वैश्विक शान्ति की स्थापना में अद्भुत योगदान दे सकता है।

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव