राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

शाकम्बरी मेले मे तैनात पुलिसकर्मि दर्शन कराने के नाम पर कर रहे है अवैध वसूली 


गुड़डू पीरज़ादा//युरेशिया
बेहट, विश्व हिंदू परिषद के महानगर सहमंत्री ने शाकंभरी देवी मंदिर परिसर में ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों पर बिना लाइन मे लगे मां के दर्शन कराने के नाम पर अवैध वसूली करने विरोध करने पर मारपीट और अभद्रता करने का आरोप लगाते हुए थाना मिर्जापुर में तहरीर देकर दोषी पुलिसकर्मीयो के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है। बजरंग दल के जिला संयोजक कपिल मोहडा ने प्रेस नोट जारी करते हुए बताया कि विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल के कार्यकर्ता मां शाकंभरी देवी के दर्शन के लिए लाइन में लगे हुए थे। आरोप है कि लगाते मेला परिसर में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी अवैध वसूली कर बिना लाइन में लगे लोगों को मां के दर्शन करा रहे थे। जिसका विश्व हिंदू परिषद के महानगर सहमंत्री चिराग ने विरोध किया विरोध करने के बाद पुलिसकर्मियों ने अन्य पुलिसकर्मियों को बुलाकर उनके साथ अभद्रता एवं मारपीट की और उन्हें चौकी में ले जाकर दोबारा से पिटाई की। घटना की सूचना पाकर विहिप के प्रांत मठ मंदिर के प्रमुख आचार्य कमल किशोर एवं बजरंग दल के जिला संयोजक कपिल मोहड़ा अपने कार्यकर्ताओं के साथ थाना मिर्जापुर पहुंचे ओर दोषी पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्यवाही की मांग करते हुए हंगामा शुरू कर दिया और धरने पर बैठ गए। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ एस चनप्पा के द्वारा फोन पर आश्वासन के बाद सभी कार्यकर्ताओ ने धरना समाप्त किया। पुलिस क्षेत्राधिकारी विजय पाल सिंह का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है जांच उपरांत दोषी पाए जाने पर पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां