साप्ताहिक बंदी पर व्यापार संगठन नहीं एकराय,लेबर इंस्पेक्टर ने काटे 24 व्यापारियों के चालान


डॉ0 असलम/युरेशिया
मवाना, कोरोना काल में साप्ताहिक बंदी के आदेशों पर कई फाड़ो में बटे व्यापार संगठनों के भीतर चल रही राजनिति का शिकार बुधवार को नगर के कुछ व्यापारी हो गए तथा लेबर अधिकारी को खुद सड़क पर उतरना पड़ा। दरअसल कोरोना महामारी के चलते जिलाधिकारी के बालाजी द्वारा मवाना नगर में बुधवार को साप्ताहिक बंदी के आदेश दिए गए थे जिसके बाद नगर के ही आधा दर्जन व्यापार संगठनों के लोगों में चल रही आपसी गुटबाजी खुलकर सामने आ गई थी। गुटबाजी के चलते ही पहले तो सभी व्यापारी संगठन बाजार बंद कराने की मांग पर अड़े थे वहीं एक व्यापार संगठन के लोगों द्वारा मंगलवार को हुए तहसील दिवस में बाजार खुलवाने की मांग की गई थी। व्यापार संगठन के लोगों द्वारा की जा रही मांगों को देखते हुए जिलाधिकारी के बालाजी ने बुधवार को मवाना नगर के सभी बाजार बंद रखने के आदेश जारी कर दिए थे बावजूद इसके व्यापारी संगठनों की गुटबाजी के चलते जहां एक तरफ 70 फ़ीसदी दुकानें बंद रही वहीं दूसरी तरफ 30 फ़ीसदी व्यापारी अपनी दुकानें खोल कर बैठ गए।
जिलाधिकारी व उपजिलाधिकारी के निर्देशों पर एडिशनल श्रम अधिकारी अरविंद कुमार मद्धेशिया द्वारा 24 व्यापारियों के चालान काट कर बाकी बचे व्यापारियों को चेतावनी दे दी गई। श्रम विभाग द्वारा की गई कार्यवाही से जहां एक तरफ दुकानें खोलकर बैठे व्यापारियों में हड़कंप मच गया वहीं दूसरी तरफ एक व्यापार संगठन के पदाधिकारी का श्रम अधिकारी के साथ जाकर दुकानें बंद करवाना भी पूरे दिन नगर में चर्चा का विषय बना रहा अधिकारी अधिकारी ने सुभाष चौक झब्बर मंडी ग्लैक्सी प्लाजा,मुन्नालाल बाजार,दयानंद बाजार, सुभाष बाजार,गुड़मंडी,थाना तिराहा,सर्राफा बाजार आदि में पहुंचकर 24 व्यापारियों की दुकानें बंद कराते हुए अन्य व्यापारियों को कड़ी कार्यवाही करने की चेतावनी दे डाली बाजार  में श्रम विभाग की कार्यवाही से व्यापारी संगठनो के बीच चल रही गुटबाजी खुलकर सामने आ गई है।


तहसील दिवस में कुछ व्यापारी संगठनों द्वारा बाजार बंद कराने की मांग की गई थी जिसके बाद जिलाधिकारी व उपजिलाधिकारी के निर्देशों पर 24 लोगों के चालान काटे गए हैं तथा बाजार बंद कराकर टीम वापस आई है।
अरविंद मद्धेशिया
श्रम प्रवर्तन अधिकारी
तहसील, मवाना(मेरठ)