केनरा बैंक(पूर्व सिंडिकेट) की ब्रांच का हुआ शुभारंभ

Image
फोटो परिचय:-शुभारंभ करते हुए रीजनल मैनेजर देवराज सिंह  डॉ असलम यूरेशिया बहसूमा। नगर के हसापुर रोड पर केनरा बैंक सिंडिकेट की ब्रांच स्थानांतरण करने के बाद शुभारंभ किया गया। शुभारंभ करने के बाद रीजनल मैनेजर देवराज सिंह ने कहा कि केनरा बैंक की नई जगह ब्रांच खोलने से ग्राहकों को परेशानी का सामना करना नहीं पड़ेगा। आसानी से अपना पैसा जमा या निकाल सकते हैं। अलग-अलग जमा करने एवं निकालने की डेक्स बनाई गई है। जिससे ग्राहकों को आसानी से पैसा जमा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 114 वर्ष पूर्व हमारे संस्थापक अंबेबल सुब्बाराव पई मंगलूर कर्नाटक में एक संस्थान की न्यू रखी गई जो कि आज भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है और 1910 में केनरा बैंक के रूप में पल्लवित हुआ। उन्होंने कहा कि सुब्बाराव पई एक महान मानव प्रेमी होने के साथ-साथ समाजसेवी भी थे। जिनके विचारों में एक अच्छा बैंक ने केवल समाज का वित्तीय हृदय होता है। उन्होंने कहा कि केनरा बैंक की 10403 शाखाएं और 13406 एटीएम जो 8.48.00.000 लोगों से ज्यादा बढ़ते आधार की सभी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। विदेश में बैंक की 8 शाखाएं हैं। डिविजनल मैनेजर अनुर

किसानों ने दूसरे दिन दिया धान मंडी में धरना


  • धरना की सूचना पर पहुंचे उच्चाधिकारी किसानों को दिया आश्वासन

  • किसानों का आरोप था कि एमएसपी रेटों से कम भाव खरीद रहे हैं व्यापारी



मवाना(डा0 असलम)। बहसूमा थाना क्षेत्र के गांव सैफपुर-फिरोजपुर में किसानों का धान कम दामों पर खरीदने को लेकर भाकियू किसान सेना के पदाधिकारियों ने धरना दे दिया था। दूसरे दिन धान मंडी में किसानों का धरना जारी रहा। किसानों का आरोप है कि मंडी में बैठे व्यापारी अपनी मनमर्जी से धान खरीद रहे हैं। जिससे किसानों का आर्थिक शोषण हो रहा है। व्यापारी एमएसपी के रेटों पर धान नहीं खरीद कर रहे हैं। जिसको लेकर बुधवार को किसान सेवा सहकारी समिति हुसैनपुर में किसानों ने जमकर हंगामा किया। उसके बाद धान मंडी में धरना जारी रहा। धरने की सूचना पर एसडीएम मवाना पुलिस टीम को साथ लेकर मौके पर पहुंचे और किसानों की समस्या से रूबरू हुए। किसानों ने एसडीएम को एक ज्ञापन भी सौंपा है। एसडीएम ने जल्द ही समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया है।
            श्रामराज उर्फ सैफपुर-फिरोजपुर में प्रदेश की सबसे बड़ी धान मंडी है। जिसमें दूर-दूर से किसान अपना धान लेकर आते हैं। लेकिन व्यापारी अपनी मनमर्जी से धान खरीदते हैं। धान लेकर गए किसान नकुल अहलावत, सगीर त्यागी, सूबेदार मेजर सरदार जोगिंदर सिंह बांकुरा, किसान बलजीत सिंह बाजवा, कमलदीप, इंद्रमोहन, गुलजार आदि ने बुधवार को सेवा सहकारी समिति में धान न तुलने को लेकर जमकर हंगामा किया था। जिस पर अधिकारियों ने किसानों का धान तुलने की बात कहते हुए समझा-बुझाकर शांत कर दिया था जिस पर किसान चले गए थे। उसके बाद रामराज धान मंडी में किसानों का एमएसपी के रेटों को लेकर जमकर हंगामा किया। हंगामे की सूचना पर एसडीएम मवाना कमलेश कुमार गोयल एसडीएम जानसठ  मौके पर पहुंचे और किसानों की समस्या से रूबरू हुए। जिस पर किसानों ने कांटे की जांच करने तथा एमएसपी पर धान खरीदने की मांग की है। जिस पर एसडीएम मवाना ने उनकी समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया है। किसानों ने चेतावनी दी है कि यदि किसानों की समस्या दूर नहीं की जाती तो वह अनिश्चितकालीन धरना देने पर मजबूर हो जाएंगे।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां