केनरा बैंक(पूर्व सिंडिकेट) की ब्रांच का हुआ शुभारंभ

Image
फोटो परिचय:-शुभारंभ करते हुए रीजनल मैनेजर देवराज सिंह  डॉ असलम यूरेशिया बहसूमा। नगर के हसापुर रोड पर केनरा बैंक सिंडिकेट की ब्रांच स्थानांतरण करने के बाद शुभारंभ किया गया। शुभारंभ करने के बाद रीजनल मैनेजर देवराज सिंह ने कहा कि केनरा बैंक की नई जगह ब्रांच खोलने से ग्राहकों को परेशानी का सामना करना नहीं पड़ेगा। आसानी से अपना पैसा जमा या निकाल सकते हैं। अलग-अलग जमा करने एवं निकालने की डेक्स बनाई गई है। जिससे ग्राहकों को आसानी से पैसा जमा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 114 वर्ष पूर्व हमारे संस्थापक अंबेबल सुब्बाराव पई मंगलूर कर्नाटक में एक संस्थान की न्यू रखी गई जो कि आज भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है और 1910 में केनरा बैंक के रूप में पल्लवित हुआ। उन्होंने कहा कि सुब्बाराव पई एक महान मानव प्रेमी होने के साथ-साथ समाजसेवी भी थे। जिनके विचारों में एक अच्छा बैंक ने केवल समाज का वित्तीय हृदय होता है। उन्होंने कहा कि केनरा बैंक की 10403 शाखाएं और 13406 एटीएम जो 8.48.00.000 लोगों से ज्यादा बढ़ते आधार की सभी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। विदेश में बैंक की 8 शाखाएं हैं। डिविजनल मैनेजर अनुर

कांग्रेस महिला अध्यक्षा ने प्रधानमंत्री को महिलाओ की सुरक्षा को लेकर लिखा पत्र.. 


सुनील कुमार/युरेशिया संवाददाता


बड़ोत, नगर की छपरोली चुंगी स्थित महिला कांग्रेस कमेटी की एक बैठक आयोजित की गई जिसमें जिला महिला कांग्रेस कमेटी की जिलाध्यक्ष राकेश सौदाई ने जिला महिला टीम के साथ नगर के पोस्ट ऑफिस जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नाम एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को संबोधित महिलाओं की सुरक्षा के लिए अपनी आवाज बुलंद करते हुए एक लेटर लिखा जिसमें महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए महिलाओं की सुरक्षा की उत्तर प्रदेश में मांग की उन्होंने बताया कि आज प्रदेश में महिलाओं पर लगातार अत्याचार हो रहे हैं महिलाएं सुरक्षित नहीं है महिलाओं की सुरक्षा के लिए प्रदेश और केंद्र सरकार ठोस कदम उठाएं इस मौके पर जिला महासचिव प्रिया कश्यप जिला उपाध्यक्ष नफीसा चौधरी जिला महासचिव भक्ति सिंह आदि मौजूद रहे.


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां