सुबह 8 बजे से वोटिंग शुरू, नोटा का नहीं है विकल्प, हर हाल में देना होगा वोट

Image
मेरठ  ( युरेशिया) । स्नातक एवं शिक्षक चुनाव के लिए आज 1 दिसंबर 2020 को वोट डाले जा रहे हैं। जिसके लिए विक्टोरिया पार्क से सोमवार को ही पोलिंग पार्टी रवाना हुई थीं। जनपद मेरठ में स्नातक के लिए 77 व शिक्षक के लिए 30 बूथ बनाए गए हैं। एक पोलिंग पार्टी में एक पीठासीन अधिकारी व 3 मतदान अधिकारी मौजूद हैं। सुबह आठ बजे से वोटिंग शुरू हो गई है। जो शाम पांच बजे तक चलेगी।अधिकारी भी लगातार बूथ पर निरीक्षण कर रहे हैं। जिलाधिकारी के. बालाजी ने बताया कि मेरठ खंड स्नातक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 113 मतदान केन्द्र व 372 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ खंड शिक्षक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 111 मतदान केन्द्र व 116 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ में स्नातक के लिए 77 बूथ व 31 मतदान केन्द्र तथा शिक्षक निर्वाचन के लिए 30 बूथ व 30 मतदान केन्द्र हैं। उन्होंने बताया कि मतदान प्रातः 8.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक होगा। स्नातक के लिए 30 व शिक्षक निर्वाचन के लिए 15 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। मतपत्र में नोटा

 दिव्यांग जनों को सत्ता व राजनीति में  समान अवसर देने वाला राजस्थान देश में पहला राज्य 


  • दिव्यांग हितैषी सोशल एक्टिविस्ट कंचन शर्मा ने जताया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार



युरेशिया संवाददाता


जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिव्यांग जनों के हक में एक अहम फैसला  लेकर दिव्यांग जनों के लिए एक बार फिर संवेदनशीलता का परिचय दिया। जिससे दिव्यांग जनों के हौसलों को नई उड़ान मिलेगी।
 सरकारी विभागों की तरह दिव्यांग जनों को सत्ता व राजनीति में समान अवसर मिलेगा. स्थानीय निकायों में मनोनीत करने का फैसला लिया गया।
देश में राजस्थान ऐसा पहला राज्य होगा जहां दिव्यांगों को सत्ता व राजनीति में समान अवसर प्राप्त होंगे.
विशेष योग्यजन न्यायालय में दायर परिवाद के संदर्भ में यह फैसला लिया गया।
दिव्यांगों को सत्ता व राजनीति में समान अवसर के लिए प्रकरण का विभाग स्तर पर परीक्षण करने के उपरांत ये फैसला लिया कि स्थानीय निकाय संस्थानों में नाम निर्दिष्ट किए जाने पर निर्णय होगा व दिव्यांग सदस्यों के मनोनयन के समय दिव्यांगजन भी मनोनीत होंगे।
इस फैसले से दिव्यांग जनों में खुशी की लहर है। कंचन शर्मा ने कहा कि  अब दिव्यांगजन भी सत्ता व राजनीति में अपना प्रतिनिधित्व देकर अपनी प्रतिभा दिखा सकेंगे।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां