कोविड-19 जैसी बीमारी के अलावा इमरजेंसी सेवाओं के लिए भी कारगर साबित हो रहे हैं 108 और 102 एंबुलेंस कर्मी


गौरव सैनी


परीक्षितगढ़। कोविड-19 जैसी महामारी बीमारी मैं जहां 108 और 102 एंबुलेंस कर्मचारी अपनी जान की परवाह न करते हुए अपना फर्ज निभा रहे हैं। वही इमरजेंसी सेवाओं में भी अपना फर्ज निभा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के 108 एंबुलेंस कर्मचारी कोरोना काल में देश सेवा के अलावा इमरजेंसी ,एक्सीडेंट केस,या फिर कोई भी सीरियस केस हो अपनी जान की परवाह न करके अपना फर्ज निभा रहे हैं। सीएचसी से जिला अस्पताल के लिए रेफर किए जाते हैं तो 108 और 102 एंबुलेंस कर्मचारी तत्पर रहते हैं। और अपना पूर्ण योगदान दे रहे है।108 व 102 एंबुलेंस के क्षेत्राधिकारी संजीव कपिला, जिला प्रभारी विपिन आधाना ने बताया कि कोरोना के लिए जो एंबुलेंस कर्मचारी रिजर्व किए गए हैं उनके अलावा इमरजेंसी जैसे कैसो को भी एंबुलेंस कर्मचारी बखूबी निभा चल रही है। तथा स्टाफ बिना डरे किसी भी इमरजेंसी केस के लिए तैयार रहता है। एंबुलेंस कर्मियों द्वारा कोरोना के मरीजों को समय रहते भर्ती कराया गया तथा उपचार कर उनकी जान बचाई जा सकी। घर लौटते समय मरीजों ने  एंबुलेंस कर्मियों को मसीहा बताया साथ ही इमरजेंसी सेवाएं जैसे सड़क हादसे, गर्भवती महिलाएं आदि गंभीर मरीजों को भी समय समय पर भर्ती कराया। जहां चिकित्सकों का कहना था कि एंबुलेंस द्वारा सही समय पर भर्ती कराने पर समय रहते उपचार कर जान बचाई जा सकी  एंबुलेंस की सुविधा निशुल्क है। किसी भी इमरजेंसी सुविधा के लिए लोगों को 108 व 102 पर कॉल करके एंबुलेंस कर्मियों को सूचना दे सकते हैं। तथा उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दी गई 108 व 102 एंबुलेंस सेवा का निशुल्क लाभ उठा सकते हैं।


Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट