राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

कारगिल विजय दिवस की 21वीं वर्षगांठ के अवसर पर स्वतंत्रता सेनानियों का माला पहनाकर किया स्वागत 


गौरव सैनी


परीक्षितगढ़ । कारगिल विजय दिवस की 21वीं वर्षगांठ की अवसर पर नगर के कारगिल युद्ध में सहयोगी रहे फौजियों को माला पहनाकर उनका स्वागत किया गया। नगर के अशोक त्यागी के आवास पर कारगिल युद्ध में सहयोगी रहे सुनील त्यागी, कृष्ण पाल त्यागी, अभिषेक ढिल्लन उर्फ सेंटी का चेयरमैन अमित मोहन टापू के नेतृत्व में माला पहनाकर सम्मान किया गया। इस मौके पर चेयरमैन अमित मोहन टापू ने कहा कि यह सौभाग्य की बात है कि हमारे नगर में कई सैनिकों ने कारगिल युद्ध में भारत की जीत का हिस्सा रहे हैं। जिससे हमें खुले भारत में रहने का मौका मिल रहा है। हमें वीर सैनिकों पर गर्व है। इस मौके पर अशोक त्यागी, बलवीर सिंह, विजय शर्मा, छोटू गर्ग, आदि मौजूद थे।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां