वेंक्टेश्वरा में ’’राष्ट्रीय बालिका दिवस’’ पर ’मातृशक्ति सम्मान समाराह’ एवं ’बेटी बचाओ-बेटी पढाओ’’ शपथ समारोह

Image
जिस देश में कन्या को दुर्गा के रुप में पूजा जाता है, वहां कन्या भ्रूण हत्या सिर्फ एक कानूनी अपराध नहीं बल्कि एक राष्ट्रीय अभिशाप-डाॅ0 सुधीर गिरि  आज हम मातृशक्ति को सम्मानित करते हुए खुद को गौरान्वित महसूस कर रहे है- डाॅ0 राजीव त्यागी अनीस खान यूरेशिया ब्यूरो मेरठ। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर राष्ट्रीय राजमार्ग बाईपास स्थित वेंक्टेश्वरा संस्थान में अलग-अलग क्षेत्रो में उल्लेखनीय/उत्कृष्ट कार्य करने वाली 22 छात्राओ एवं महिला शिक्षिकाओ को स्मृति चिन्ह एवं पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रतिकुलाधिपति डाॅ0 राजीव त्यागी ने उपस्थित स्टाॅफ एवं छात्र-छात्राओ को ’’बेटी बचाओ-बेटी पढाओ’’ की शपथ दिलाकर सभी से ’’महिला सशक्तिकरण अभियान के महाकुम्भ में अपना सक्रिय योगदान देने की अपील की। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर ’’वेंक्टेश्वरा संस्थान के अब्दुल कलाम आजाद सभागार में ’’मातृशक्ति सम्मान समारोह एवं ’’बेटी बचाओ-बेटी पढाओ शपथ समारोह का शुभारम्भ विश्वविद्यालय के चेयरमैन डाॅ0 सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डाॅ0 राजीव त्यागी, कुलपति प्रो0 पी0 के0 भारती, नर्सिंग प्रिंसीपल डाॅ0 एना ब्राउन ने सरस्वती माँ

कांवड़ यात्रा: हरिद्वार की सीमाएं होंगी सील, जानें कब तक रहेंगी सील


यूरेशिया संवाददाता


देहरादून | कांवड़ यात्रा रद्द होने के बाद शुक्रवार से हरिद्वार जिले की सीमाएं भी सील हो जाएंगी और यह व्यवस्था 20 जुलाई तक रहेगी। इस दौरान इमरजेंसी सेवाओं के अलावा अस्थि-विसर्जन के लिए आने वाले लोगों को छूट दी जाएगी।  इसके साथ ही उत्तराखंड के लोगों को भी पास होने पर ही यहां आने दिया जाएगा। कोरोना महामारी को देखते हुए राज्य सरकार ने कांवड़ यात्रा को रद्द कर दिया है। किसी भी कावड़िए को हरिद्वार में एंट्री नहीं मिलेगी।  इसके लिए हरिद्वार पुलिस ने तैयारियां कर ली हैं। बाहरी राज्यों के अफसरों संग हरिद्वार पुलिस-प्रशासन बैठक कर चुका है। बीते बुधवार की बैठक में निर्णय लिया गया था कि हरिद्वार पहुंचने पर कांवड़ियों को चौदह दिन के लिए क्वारंटाइन किया जाएगा। गुरुवार को पुलिस ने जिले की सीमाओं को सील करने का आदेश जारी कर दिया।  एसएसपी सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस. ने बताया कि 6 जुलाई से सावन की शुरुआत को देखते हुए शुक्रवार से जिले की सीमाएं सील कर दी जाएंगी। बाहरी राज्यों से अनुमति लेकर यहां आने वाले लोगों को भी नहीं आने दिया जाएगा। पर, उत्तराखंड के लोगों को राहत दी जाएगी। बाहरी राज्यों के अधिकारियों से अपील की गई कि हरिद्वार का पास जारी नहीं किया जाए।  संबंधित खबर   वापस जाने पर रोक नहीं:  हरिद्वार से वापस जाने वाले लोगों को जिला पुलिस नहीं रोकेगी। इसके अलावा हरिद्वार की सीमा से उन लोगों को भी आने दिया जाएगा, जिन्हें पहाड़ की ओर जाना है।    सभी अनुमति निरस्त: बाहरी राज्यों के लोग हरिद्वार आ रहे थे। इनके पास स्थानीय प्रशासन या सरकार से जारी अनुमति होती थी, लेकिन अब कांवड़ मेले में इन सभी अनुमति को निरस्त माना जाएगा।


Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव