’पराक्रम दिवस (नेताजी सुभाषचन्द्र बोस जयन्ती 23 जनवरी) की पूर्व संध्या पर वेंक्टेश्वरा में ’’नेताजी एक वैचारिक क्रान्ति’’ विषय पर सेमीनार एवं उनके स्वतन्त्रता संघर्ष पर ’’विशाल पोस्टर प्रर्दशनी’’

Image
नेताजी के संघर्ष से मिली अनमोल आजादी को व्यर्थ ना जाने दे युवा- डाॅ0 सुधीर गिरि  आजादी की जंग में निर्विवाद रुप से नेता जी से बड़ा कोई पराक्रमी नहीं- कर्नल अमरदीप त्यागी देश की आजादी के लिए नेताजी का संघर्ष एवं पराक्रम समूचे भारत के लिए वन्दनीय- डाॅ0 बी0एन0 पाराशर युवाओ/छात्रो को नेताजी के जीवन दर्शन एवं संघर्ष गाथा बताने के लिए संस्थान ने अपने पुस्कालय में किया 500 से अधिक पुस्तको का संग्राहलय- डाॅ0 राजीव त्यागी  अनीस खान/ युरेशिया  मेरठ।आज राष्ट्रीय राजमार्ग बाईपास स्थित वेंक्टेश्वरा विश्वविद्यालय/संस्थान में नेताजी सुभाषचन्द्र बोस जयन्ती (पराक्रम दिवस 23 जनवरी) की पूर्व संध्या पर देश की आजादी के सबसे बड़े महानायक आजाद हिन्द फौज के संस्थापक नेताजी के बलिदान को याद करते हुए ’’नेताजी एक वैचारिक क्रान्ति’’ विषय पर सेमीनार का आयोजन हुआ, जिसमें वक्ताओ ने आजादी के लिए नेताजी की संघर्ष गाथा पर सिलसिलेवार प्रकाश डालते हुए इस महान योद्धा की पराक्रम गाथा से उपस्थित स्टाॅफ एवं छात्र-छात्राओ को रुबरु कराया। इसके साथ ही विख्यात शिक्षाविद् एवं आजाद हिन्द सेना मंच से जुड़े डाॅ0 बी0एन0 पाराशर के निर्दे

पीएचसी और सीएचसी पर स्थापित होगी कोरोना हेल्प डेस्क

यूरेशिया संवाददाता
मुजफ्फरनगर। जिले के प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर कोरोना हेल्प डेस्क स्थापित की जाएगी, ताकि वहां पर लोगों को कोरोना से बचाव और उपचार संबंधित जानकारी दी जा सके। प्रदेश की स्वास्थ्य सचिव वी. हेकाली झिमोमी की ओर से भेजे गए पत्र में यह निर्देश दिए गए हैं कि सभी पीएचसी और सीएचसी पर ओपीडी सेवाएं शुरू करने के साथ ही कोरोना हेल्प डेस्क पर पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती की जाए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा. प्रवीण चोपड़ा ने बताया कि शासन से पत्र मिलने साथ ही जनपद की सभी पीएचसी और सीएचसी को कोरोना हेल्प डेस्क स्थापित करने के निर्देश दे दिए गए हैं। जिले में नौ सीएचसी और 48 पीएचसी हैं।


सीएमओ ने बताया शासन से मिली गाइड लाइन के मुताबिक कोरोना हेल्प डेस्क पर तैनात पैरा मेडिकल स्टाफ इंफ्रारेड थर्मामीटर और पल्स ऑक्सीमीटर से लैस होगा। यानी कोरोना हेल्प डेस्क पर ही इस बात की जांच कर ली जाएगी कि मरीज को बुखार है कि नहीं,इसके अलावा यह भी पता लगा लिया जाएगा कि मरीज के शरीर में ऑक्सीजन का लेबल कितना है। इसके साथ ही सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर ऐसे साइन बोर्ड लगाने के निर्देश दिए गए हैं, जिसमें यह स्पष्ट रूप में अंकित किया जाएगा कि हेल्प डेस्क में फ्लू और बुखार के रोगियों की जांच की जाती है। सीधे हेल्प डेस्क पर जाने के लिए रास्ते की जानकारी भी बोर्ड पर दी जाएगी ताकि मरीज को इधर-उधर न भटकना पड़े और वह कम से कम लोगों के संपर्क में आए। सभी स्वास्थ्य केंद्रों को जरूरत के हिसाब से इंफ्रारेड थर्मामीटर और पल्स ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराये जायेंगे । 



Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव