विनायक विद्यापीठ के छात्र रिकान्त नागर ने राज्य स्तर पर प्राप्त किया प्रथम स्थान

Image
प्रयागराज में आयोजित 54वीं उत्तर प्रदेश राज्य वार्षिक एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में जीता स्वर्ण पदक युरेशिया विनायक विद्यापीठ महाविद्यालय ने एक बार फिर जीत का परचम लहराकर राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया है। बीए द्वितीय वर्ष के छात्र रिकांत नागर ने प्रयागराज के मदन मोहन मालवीय स्पोर्ट्स स्टेडियम द्वारा आयोजित 54वीं उत्तर प्रदेश राज्य वार्षिक एथलेटिक्स प्रतियोगिता में शानदार प्रदर्शन दिया है। रिकांत ने अंडर - 20 इवेंट में 110 हर्डल रेस में प्रथम स्थान प्राप्त कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। और 400 हर्डल रेस में कांस्य पदक हासिल किया। संस्थान के चेयरमैन डॉ सोमेंद्र तोमर हमेशा ही बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रयासरत रहते हैँ। वह स्वयं भी खेल कूद से जुड़े रहते हैँ व छात्र छात्राओं को भी प्रेरित करते हैँ। रिकांत के इस प्रदर्शन पर उन्होंने विशेष शुभकामनायें प्रेषित की। इस मौके पर संस्थान की प्राचार्या डॉ उर्मिला मोरल ने बुके व सर्टिफिकेट देकर रिकांत को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि वह बेहद गौरवान्वित महसूस करती हैँ ज़ब भी संस्थान के छात्र छात्रा विभिन्न क्षेत्रों में अपना उम्दा प्रदर्शन

हार्पर्र कॉलिन्‍स पब्लिशर्स इंडिया से जीतेन्‍द्र दीक्षित की पुस्‍तक 35 डेज हाउ पॉलिटिक्‍स इन महाराष्‍ट्र चेंज्‍ड फॉरएवर प्रकाशित


यूरेशिया संवाददाता

मेरठ  -  श्री जीतेन्‍द्र दीक्षित एबीपी न्‍यूज के वेस्‍ट इंडिया एडिटर और 35 डेज  हाउ पॉलिटिक्‍स इन महाराष्‍ट्र चेंज्‍ड फॉरएवर  पुस्‍तक के लेखक हैं। यह पुस्‍तक वर्ष 2019 में महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव की घोषणा और प्रदेश में शिव.सेना.एनसीपी.कांग्रेस सरकार के गठन के बीच के 35 दिनों तक चले अत्‍यंत नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रमों पर से पर्दा उठाती है। इसमें पाठकों के लिए पूर्वोक्‍त समयावधि के दौरान घटी घटनाओं जिन्‍हें देखने के लिए देश भर के लोग टीवी से चिप के रहें से लेकर 28 नवंबर 2019 को उद्धव ठाकरे द्वारा प्रदेश के मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ लिये जाने तक के घटनाक्रमों का सिलसिलेवार ढंग से विश्‍लेषण है। संयोगवश ऐसा पहली बार हुआ कि ठाकरे परिवार का कोई सदस्‍य किसी राजनीतिक पद पर आसीन हुआ।  इस पुस्‍तक में उन पैंतीस दिनों तक घटी एक.एक घटना का ब्‍यौरा हैए जिसने बड़े.से.बड़े राजनीतिक पीड़ितों को चक्‍कर में डाल दिया। यह एक ऐसी कहानी है जो बताती है कि किस तरह से राजनीतिक दलों ने अप्रत्‍याशित कदम उठाये और बेहद चौंकाने वाली चालें चली जिनसे महाराष्‍ट्र में स्थिर सरकार बनने का रास्‍ता साफ हुआ।  यह सही मायने में एक ऐसा लेखा.जोखा है जिसमें यह बताया गया है कि किस तरह से राजनीतिक दलों ने दंग कर देने वाले कदम उठाये दोस्‍त दुश्‍मन बने दुश्‍मन दोस्‍त बने आदर्शों की धज्जियाँ उड़ी और सत्‍ता के लोभ ने सारी चीजों को धत्‍ता बता दिया। इन घटनाओं ने प्रदेश के सभी दलों और नेताओं के चेहरे को बेनकाब कर दिया और महाराष्‍ट्र की राजनीति को हमेशा के लिए बदल कर रख दिया। 

 

लेखक के बारे में

 

जीतेन्‍द्र दीक्षित एबीपी न्‍यूज़ के वेस्‍ट इंडिया एडिटर हैं। मुंबई में रहकर वो बीस वर्षों से अधिक समय से अपराध टकराव और राजनीति के बारे में रिपोर्टिंग करते रहे हैं। इससे पहले उन्‍होंने आजतक और स्‍टार न्‍यूज के साथ भी काम किया। क्राइम जर्नलिस्‍ट के रूप में वो मुंबई के अंडरवर्ल्‍ड के बारे में व्‍यापक रिपोर्टिंग कर चुके हैं। उन्‍होंने स्‍टार न्‍यूज के लिए ग्राउंड जीरो से 26ध्11 के मुंबई आंकी हमले को कवर किया और इस पर एक पुस्‍तक लिखीं जो हिंदी और मराठी में बेस्‍टसेलर रही। उन्‍होंने वर्ष 2011 में न्‍यूयॉर्क में संगठित आपराधिक गुटों से लड़ाई विषय पर एफबीआई द्वारा आयोजित सम्‍मेलन में भारत का प्रतिनिधित्‍व किया। वर्ष 2015 में जीतेन्‍द्र को कश्‍मीर विधानसभा चुनावों में उनकी डॉक्‍यूमेंट्री के लिए राजनीतिक श्रेणी में रेड इंक अवार्ड भी मिला। 

Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव