राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

राशन मिलने में दिक्कत हो तो पालिका चेयरमैन को करे फोन



  • निजी स्रोत से की जाएगी गरीब मजलूम व असहाय लोगों की मदद

  • अय्यूब कालिया कोरोना योद्धा बन दो माह से कर रहे है गरीबों की मदद


यूरेशिया संवाददाता


मवाना-पूरा भारत नोवल कोरोना वायरस के प्रकोप से लड़ रहा है। कुछ लोग नोवल कोरोना वायरस के वॉरियर्स/योद्धा बनकर जनता की सेवा कर रहे है। ऐसे ही एक योद्धा नगर पालिका परिषद मवाना के चेयरमैन अय्यूब कालिया है। जो लगभग दो माह से गरीबो को उनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए गरीब व असहाय लोगो तक भोजन व कच्चा राशन भी पहुंचा रहे है। चेयरमैन अय्यूब कालिया के उक्त कार्य की पूरा मवाना नगर सराहना कर रहा है। अय्यूब कालिया द्वारा यह भी कहा गया है कि मवाना नगर में किसी गरीब परिवार को भूखा नहीं सोने दिया जाएगा। उनके द्वारा यह भी कहा गया कि गरीब व असहाय लोगों के लिए उनके द्वार हमेशा खुले रहेंगे। गरीब लोगों को खाने पीने की कोई समस्या ना हो इसके लिए उन्होंने अपना मोबाइल नंबर 9897261312 भी जनता को बताया है। इससे उनके खाने पीने की समस्या का निस्तारण फोन के माध्यम से हो सके।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां