जिला अधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी की अध्यक्षता में हुई पर्यावरण एवं गंगा समिति कि बैठक

Image
 हापुड़, (अतुल त्यागी ), आज कलेक्ट्रेट के सभागार में जिलाधिकारी अनुज सिंह व मुख्य विकास अधिकारी उदय सिंह जनपदीय अधिकारियों के साथ पर्यावरण एवं गंगा समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में जिला अधिकारी ने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि अपने-अपने विभागों से संबंधित सूचनाएं निर्धारित समय अवधि के अंतर्गत जिला एवं अर्थ सांख्यिकी अधिकारी से संपर्क कर शासन द्वारा जारी की गई वेबसाइट पर अपलोड कराए। जिससे अर्थ एवं सांख्यिकी अधिकारी माह के प्रथम कार्य दिवस में प्रभागीय वन अधिकारी हापुड़ को सूचना उपलब्ध करा दें। बैठक में सदस्य सचिव प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा अवगत कराया गया कि ठोस अपशिष्ट प्रबंधन का कार्य समय अवधि में पूर्ण न किए जाने के कारण पर्यावरणीय क्षति पूर्ति के लिए शासन से निर्देश हैं। जिसके अंतर्गत प्रत्येक स्थानीय निकाय पर 5 लाख रुपये प्रतिमाह एसटीपी की दर से जुर्माना वसूल किए जाने का प्रावधान किया गया है और एसटीपी संचालन प्रारंभ ना करने की दशा में प्रत्येक स्थानीय निकाय पर 10 लाख रुपये प्रति माह का दंड शासन द्वारा निर्धारित है। जिला अधिकारी ने संबंधित विभागों के

फेस मास्क न पहनने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ होगी कार्रवाई :- जिला अधिकारी


  • सीएमओ ने दी एसी न चलाने की सलाह


यूरेशिया संवाददाता


मेरठ ।  जिला प्रशासन ने फेस मास्क न पहनने वाले लोगों के खिलाफ सख्ती बरतने की बात कही है। जिला अधिकारी अनिल ढीगड़ा ने कहा है कि अब ऐसे अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जो मास्क नहीं पहनेंगे। इसके लिये जिला अधिकारी की ओर से दिशा निर्देश जारी किये गये हैं। उधर मुख्य चिकित्सा अधिकारी सीएमओ डा राजकुमार ने लोगों को एसी का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी है। उन्होंने बताया जनपद के हॉस्पिटल, नर्सिंग होम और पैथेलॉजी लैब में सेंट्रलाइज्ड एसी चलाने पर शासन स्तर से रोक लगाई गई है।
  मेरठ में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के बीच एक ओर जहां पुलिस के साथ प्रशासनिक अधिकारी-कर्मचारी लगातार अपनी ड्यूटी पर डटे हुए हैं तो वहीं कई अधिकारी और कर्मचारी ड्यूटी के दौरान भी मास्क का प्रयोग नहीं कर रहे हैं, जिसके चलते जिला अधिकारी ने फेस मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। उन्होंने मास्क का प्रयोग नहीं करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों पर कार्रवाई की चेतावनी दी है।
जिलाधिकारी ने जिले के सभी विभागों को निर्देश जारी करते हुए कहा है कि कोविड-19 जैसी महामारी से बचाव के लिए बेहद महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे अधिकारियों और कर्मचारियों की स्वयं की सुरक्षा भी बहुत जरूरी है। फेस मास्क का प्रयोग नहीं करने पर कोरोना वायरस के सक्रमण को फैलने से इनकार नहीं किया जा सकता। ऐसे में फेस मास्क को अनिवार्य किया जाता है और जो भी अधिकारी या कर्मचारी फेस मास्क पहनने के निर्देश का उल्लंघन करेंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बता दें जिले में अब तक कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 105 तक पहुंच गया है।
उधर मुख्य चिकित्सा अधिकारी सीएमओ डा. राजकुमार ने लोगों को अभी एसी का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी है। उन्होंने बताया जनपद में हॉस्पिटल, नर्सिंग होम और पैथेलॉजी लैब पर सेंट्रलाइज्ड एसी चलाने पर शासन स्तर से रोक लगाई जा चुकी है। इस संबंध में सभी निजी अस्पतालों को एडवाइजरी जारी कर दी गई है। सीएमओ ने कहा यदि कोई निजी अस्पताल सेंट्रलाइज्ड एसी का प्रयोग करता है तो स्वास्थ्य विभाग की ओर से उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सीएमओ ने कहा सेंट्रलाइज्ड एसी की हवा पूरे अस्पताल में सर्कुलेट होती है, ऐसे में संक्रमण के फैलने की आशंका बढ़ जाती है। उन्होंने आम लोगों को अपने घर में भी एसी का इस्तेमाल न करने की सलाह दी है। उनका कहना है कि अभी मौसम बदल रहा है और ऐसे में अक्सर बीमार पडऩे की आशंका रहती है। लिहाजा थोड़े दिन एहतियात बरतना जरूरी है। 


Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला