पत्रकार को धमकी देने वाले बिल्डर के खिलाफ केस दर्ज़,बिल्डर व गुर्गे फरार

युरेशिया नई दिल्ली। विश्व पत्रकार महासंघ दिल्ली प्रदेश ने मध्य जिला पुलिस उपायुक्त संजय भाटिया व एडिशनल डी सी पी रोहित कुमार मीणा को ज्ञापन व मांग पत्र सौंप कर पत्रकार मणि आर्य को धमकी देने वाले बिल्डर के खिलाफ मुकदमा दर्ज़ करके कार्रवाई की मांग की थी। पत्रकार मणि आर्य ने दिल्ली के पहाड़गंज में बाराही माता मंदिर में चल रहे अवैध निर्माण और निगम में फैले भ्रष्टाचार और भू - माफिया बिल्डर द्वारा सरकारी भूमि पर कब्जे को लेकर खबर को प्रकाशित की थी। जिसके बाद अब दिल्ली पुलिस ने सच दिखाकर प्रशासन को जगाने वाले स्थानीय पत्रकार मणि आर्य को धमकी देने वाले बिल्डर व उसके गुर्गों के खिलाफ नबी करीम थाना पुलिस भारतीय दंड सहिंता की धारा 506 के अंतर्गत रिपोर्ट संख्या 0013/2020 के तहत ने जान से मारने की धमकी देने का केस दर्ज़ कर लिया है। केस दर्ज़ होने की भनक लगते ही गिरफ्तारी के डर से आरोपी बिल्डर और उसके कई गुर्गे भूमिगत हो गए हैं। गौरतलब है की स्थनीय जनप्रतिनिधियों से सांठगांठ करके बिल्डर बड़े पैमाने पर अवैध निर्माण करने में माहिर माना जाता है इसलिए निगम पार्षद से लेकर महापौर तक मंदिर पर अवैध निर्माण को

लॉकडाउन में ऑनडिमांड:  हेयर ड्रेसर घरों में पंहुच कर रहे कटिंग व शेविंग



  • लॉकडाउन में घरों में जाकर कर रहे कटिंग व शेविंग

  • लोग बोले शक्लें भालू जैसी हो गई इसलिए हेयर ड्रेसर को बुलाकर करा रहे कटिंग


नानौता (सहारनपुर)  (अरविन्द सिसौदिया) आज के समय में पिज्जा, बर्गर, मोबाइल, जूते और कपडे से लेकर अन्य सामान तो ऑनडिमांड मंगाए व सुने होंगे। लेकिन कोरोनावायरस के चलते हुए लॉकडाउन में दौरान सबसे अधिक यदि किसी चीज की डिमांड चल रही है तो वह बार्बर (नाई) की है। शेविंग व सिर के बाल बढने से हर कोई परेशान हो गया है इसके लिए लोग बार्बर को ऑनडिमांड घर बुलाकर ही अपने बालों की कटिंग करा रहे है। हांलाकि बार्बर घर पंहुचने का थोडा चार्ज भी अधिक ले रहे है।
आजकल लॉकडाउन के दौरान लोग बाजार बंद होने के चलते सादा खाना या फिर घर पर ही नए-नए व्यंजन बनाकर खा रहे है। तो वहीं ऑनलाइन या ऑनडिमांड कोई भी चीज उन्हें नहीं मिल पा रही है। लेकिन इस समय में एक कारीगर की डिमांड सबसे अधिक देखने को मिल रही है। वह है बाल बनाने वाले बार्बर की। लोगों का कहना है कि लॉकडाउन खुलने का इंतजार देखते-देखते शेविंग से लेकर सिर के बाल इतने बडे हो गए है कि खुजली होने लगी है। शीशे में देखने पर शक्ल भालू जैसे लगने लगी है। जिसके चलते वह आसपास के हेयर सैलून चलाने वाले बार्बर को मोबाइल नंबर से घर पंहुचकर अपने कटिंग व शेविंग के लिए बुक कर रहे है। हांलाकि जिस परिवार में भी सैलून संचालक जा रहा है वह खुद मुंह पर मास्क लगाकर और साथ में सेनेटाइजर लेकर पंहुच रहा है। लेकिन इन सबके बाबजूद लोग घर पहंुचने पर बार्बर के हाथ सेनेटाइज के साथ कटिंग व शेविंग में प्रयोग होने वाले उपकरणों को सेनेटाइज करने के साथ अपने घर के कपडों को लगाकर कार्य करा रहे है। 
सोशल डिस्टेंस के चलते बंद है हेयर ड्रेसर की दुकानें -
सरकार ने दुकानें इसलिए भी बंद करा रखी है। क्योंकि हेयर ड्रेसर की दुकान पर सोशल डिस्टेंस का अभाव रहता है। दुकानों में बैठने की जगह कम होने व लोगों की संख्या अधिक होने के चलते सोशल डिस्टेंस संभव नहीं है। इसके अलावा सैलून संचालक अधिकतर बाल बनाने के लिए एक ही कपडे व हाथों को अधिकांशत बिना धोंए या सेनेटाइज किए बिना ही इस्तेमाल करते है। यदि ऐसे में कोई भी एक संक्रमित व्यक्ति पंहुचकर काफी लोगो को वायरस से ग्रसित कर सकता है।



Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां