कोरोना खाद्यान घोटाले में बड़े लोगों को बचा रही है सरकार- कांग्रेस

यूरेशिया संवाददाता


लखनऊ, 11 मई 2020। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मुज़फ्फरनगर के कोरोना क्वारंटाइन सेंटरों में हुए खाद्यान्न घोटाले में सरकार बड़े लोगों को बचाने के लिए छोटे मोहरों को बलि का बकरा बना रही है। जबकि मामले में सीधे सरकार से जुड़े लोग शामिल हैं। इस पूरे मामले की न्यायिक जांच होनी चाहिए।


कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने जारी विज्ञप्ति में कहा है कि मुज़फ्फरनगर के चरथावल समेत पूरे ज़िले में चल रहे क्वारंटाइन सेंटरों में जिस अन्नपूर्णा फर्म को भोजन मुहैय्या कराने का ठेका उसका रेजिस्ट्रेशन ख़त्म हो चुकने के बावजूद दिया गया उसके लिए सिर्फ़ तहसीलदार लेवल के लोग ही ज़िम्मेदार नहीं हो सकते। 1 करोड़ से ज़्यादा के इस घोटाले के असली मास्टरमाइंड बड़े अधिकारी हैं जो सत्ताधारी दल से जुड़े लोगों के इशारे पर इस खेल को अंजाम दे रहे थे। इन्हें ही बचाने के लिए एडीएम अमित सिंह को छुट्टी पर भेजा गया है और सदर तहसीलदार पुष्कर नाथ चौधरी को ससपेंड किया गया है। जबकि सक्षम अधिकारी होने के कारण बिना एडीएम के मर्ज़ी के फर्म को भुगतान हो ही नहीं सकता था। 


शाहनवाज़ आलम ने कहा कि प्रदेश के लगभग सभी क्वारंटाइन सेंटरों से ऐसी शिकायतें लगातार आ रही हैं जहाँ लोगों को भरपेट खाना तक सरकार नहीं दे रही है। उन्होंने इस महामारी के समय में भी बीमार लोगों के खाने के लिए आवंटित धन में भ्रष्टाचार को शर्मनाक बताया।



Comments

Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट