कल्पना, 502 बीड़ी का बन्डल 10 वाला अब 35 रुपये का.

यूरेशिया संवाददाता


मेरठ  एक समय था जब सिनेमाघरो मे कोई नई फ़िल्म लगती थी ओर बाहर आवाज सुनने को मिलती थी  दस वाला बीस. . दस वाला तीस कोरोना वायरस के चलते सिग्रेट ओर गुटको पर प्रतिबन्ध लगा रहा है जिसकी वजह से उनकी  कालाबाजरी चर्म पर है आजकल  कुछ परचुन की दुकानो पर ग्राहक जब पुछता है कि बीड़ी का बन्डल है तो दुकानदार तो मना कर देता है लेकिन दुकान के बाहर ही खड़ा कोई युवक कह्ता है बीड़ी का बन्डल दस वाला 35 का दिलबाग 40 का मिल जायेगा जो बीड़ी का बन्डल दस रुपये का बिक रहा था वही आज 35 से 40 रुपये का बिक रहा है जनचर्चाये है कि बीड़ी का एक दस रुपये मुल्य वाला बन्डल कही 50 रुपये का ना खरीदना पड़ जाये  आखिर क्या ये सही है.हमारे संवाददाता ने जब शहर की कुछ जगह जाकर जानकारी कि तो पता चला कि कोटला शेत्र से माल गुप्चुप तरिके से महगे रेट पर आ रहा है जिसके बाद इन सब पर खुलकर कालाबाजारी हो रही है


.....ये कहना है कुछ लोगो का.            


   शास्त्री नगर निवासी राहुल का कहना है  जो बीड़ी का बन्डल दस रुपये का मिल रहा था वो आज 35 रुपये का मिल रहा है ओर यही बन्डल कही दो दिन बाद 50 रुपये का ना खरीदना पड़े..