राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

गरीब, असहाय परिवार को बाटी खाद्य सामग्री


यूरेशिया संवाददाता
मवाना-पूरे भारत में लॉकडाउन के दृष्टिगत सोमवार को अपने निजी स्रोत से नगर पालिका परिषद मवाना के अध्यक्ष अयूब कालिया द्वारा हस्तिनापुर की कलंदर बस्ती के गरीब व असहाय 29 परिवारों को सोशल डिस्टेंस रखते हुए खाद्य सामग्री वितरित की गई। खाद्य सामग्री वितरण में उनके द्वारा 10 किलो आटा, 4 किलो चीनी,  ढाई किलो दाल, एक किलो नमक,  एक लीटर तेल,  एक किलो मसाले, छः किलो चावल,  चार किलो आलू,  चाट किलो प्याज, आठ किलो हरी मिर्च, ढाई सौ ग्राम चाय वितरित की गई। खाद्य सामग्री पाकर गरीब लोग बहुत खुश नजर आए। खाद्य सामग्री वितरण के मौके पर यूसुफ कुरैशी नेता, सगीर हलवाई, नबी हसन आदि उपस्थित रहे।



Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां