केनरा बैंक(पूर्व सिंडिकेट) की ब्रांच का हुआ शुभारंभ

Image
फोटो परिचय:-शुभारंभ करते हुए रीजनल मैनेजर देवराज सिंह  डॉ असलम यूरेशिया बहसूमा। नगर के हसापुर रोड पर केनरा बैंक सिंडिकेट की ब्रांच स्थानांतरण करने के बाद शुभारंभ किया गया। शुभारंभ करने के बाद रीजनल मैनेजर देवराज सिंह ने कहा कि केनरा बैंक की नई जगह ब्रांच खोलने से ग्राहकों को परेशानी का सामना करना नहीं पड़ेगा। आसानी से अपना पैसा जमा या निकाल सकते हैं। अलग-अलग जमा करने एवं निकालने की डेक्स बनाई गई है। जिससे ग्राहकों को आसानी से पैसा जमा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 114 वर्ष पूर्व हमारे संस्थापक अंबेबल सुब्बाराव पई मंगलूर कर्नाटक में एक संस्थान की न्यू रखी गई जो कि आज भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है और 1910 में केनरा बैंक के रूप में पल्लवित हुआ। उन्होंने कहा कि सुब्बाराव पई एक महान मानव प्रेमी होने के साथ-साथ समाजसेवी भी थे। जिनके विचारों में एक अच्छा बैंक ने केवल समाज का वित्तीय हृदय होता है। उन्होंने कहा कि केनरा बैंक की 10403 शाखाएं और 13406 एटीएम जो 8.48.00.000 लोगों से ज्यादा बढ़ते आधार की सभी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। विदेश में बैंक की 8 शाखाएं हैं। डिविजनल मैनेजर अनुर

ईद उल फितर की नमाज घर पर ही अदा करें- मौलाना आरिफ उल हक


विश्वबंधु शास्त्री 


बड़ौत। शुक्रवार को रमजान का आखिरी जुमा था। हर साल आखिरी जुमे पर बाजारों की रौनक बढ़ जाया करती थी। सड़कों पर छोटे-बड़े सभी सफेद कुर्ते पायजामे में नजर आया करते थे, लेकिन इस बार कोरोना संकट के चलते ऐसा नहीं हुआ। पहली बार जनपद की सभी मस्जिदों में चार-पांच लोगों ने अलविदा की नमाज पढ़ी और कोरोना संकट से जल्द निजात की दुआ मांगी और बाकि लोगों ने अपने अपने घरों में जोहर की नमाज पढ़ी। शनिवार को चांद का दीदार किया जाएगा। संभवतया 24 मई को पूरे देश में ईद का पर्व मनाया जाएगा।



मरकजी मस्जिद फूंसवाली के ईमाम मौलाना आरिफ उल हक ने  चार लोगों को नमाज पढ़ाई  और कहा कि जिस मस्जिद में अलविदा के दिन हजारों की भीड़ हुआ करती थी, आज पूरा कंपाउंड खाली पड़ा हुआ है। हालांकि, मौलाना आरिफ उल हक ने आम लोगों से पहले ही अपील की थी कि कोरोना को देखते हुए लोग अलविदा की नमाज पढ़ने मस्जिदों में न जाएं और न ही एक-दूसरे के घरों पर जाएं। उन्होंने कहा कि इस्लाम में रमजान के अखिरी जुमे यानी अलविदा को सबसे अफजल करार दिया गया है।  यूं तो जुमे की नमाज पूरे साल ही खास होती है लेकिन रमजान के आखिरी जुमे अलविदा की नमाज सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है। अलविदा की नमाज के बाद सच्चे दिल से मांगी गई हर जायज दुआ अल्लाह कुबूल करता है और अपने बंदों को हर गुनाह से पाक-साफ कर देता है। मौलाना आरिफ उल हक ने बिरादराने इस्लाम से अपने घरों में ही ईद-उल-फ़ितर की नमाज घरों में ही अदा करने की अपील की। उन्होंने कहा कि सभी जानते हैं कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन 31 मई तक बढ़ा दिया गया है। इसी दौरान ईद उल फितर का त्योहार मनाया जाना है। उन्होंने सभी से गुज़ारिश की कि पांचों वक्त की नमाज मय ईद उल फितर की नमाज भी घर पर ही अदा की जाएं। उन्होंने कहा कि दुआ करें कि अल्लाह हम सबकी हिफाजत फरमाएं।
उन्होंने बताया कि जो लोग ईद की नमाज न पढ़ सके तो बेहतर यह है कि वह चाश्त की नमाज सूरज निकलने के बीस मिनट के बाद से लेकर ज़वाल के पहले तक अदा कर सकता है। दो रकाअत चाश्त की नमाज का तरीका नफिल नमाज के जैसा है। चाश्त नमाज कम से कम दो रकाअत और ज्यादा से ज्यादा 12 रकाअत है। कहा कि ईद की नमाज से पहले और बाद में पढ़ा जाने वाला खुत्बा सुनना जरूरी होता है। उन्होंने कहा कि ईद की नमाज से पहले उर्दू में पढ़ा जाने वाला खुत्बा ऑनलाइन देखकर पढ़ सकते है। मौलाना ने कहा कि ईद की नमाज से पहले लोग अपना फितरा और जकात गरीबों और जरूरतमंदों को देना अनिवार्य है। फितरा जिसकी मात्रा एक साथ (करीब 3 किलोग्राम गेहूं, जौ, खजूर या किशमिश या उनका मूल्य, प्रत्येक बालिग और समझदार व्यक्ति, जो पूरे वर्ष अपने और अपने परिवार पर खर्च उठाता हो, वह अपने और अपने परिवार का फितरा भुगतान करने के लिए वाजिब (जरूरी) है।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां