केनरा बैंक(पूर्व सिंडिकेट) की ब्रांच का हुआ शुभारंभ

Image
फोटो परिचय:-शुभारंभ करते हुए रीजनल मैनेजर देवराज सिंह  डॉ असलम यूरेशिया बहसूमा। नगर के हसापुर रोड पर केनरा बैंक सिंडिकेट की ब्रांच स्थानांतरण करने के बाद शुभारंभ किया गया। शुभारंभ करने के बाद रीजनल मैनेजर देवराज सिंह ने कहा कि केनरा बैंक की नई जगह ब्रांच खोलने से ग्राहकों को परेशानी का सामना करना नहीं पड़ेगा। आसानी से अपना पैसा जमा या निकाल सकते हैं। अलग-अलग जमा करने एवं निकालने की डेक्स बनाई गई है। जिससे ग्राहकों को आसानी से पैसा जमा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 114 वर्ष पूर्व हमारे संस्थापक अंबेबल सुब्बाराव पई मंगलूर कर्नाटक में एक संस्थान की न्यू रखी गई जो कि आज भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है और 1910 में केनरा बैंक के रूप में पल्लवित हुआ। उन्होंने कहा कि सुब्बाराव पई एक महान मानव प्रेमी होने के साथ-साथ समाजसेवी भी थे। जिनके विचारों में एक अच्छा बैंक ने केवल समाज का वित्तीय हृदय होता है। उन्होंने कहा कि केनरा बैंक की 10403 शाखाएं और 13406 एटीएम जो 8.48.00.000 लोगों से ज्यादा बढ़ते आधार की सभी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। विदेश में बैंक की 8 शाखाएं हैं। डिविजनल मैनेजर अनुर

दो गज की दूरी, बनी बडी जिम्मेदारी


  • खुद के साथ दूसरों को सुरक्षित रखने का बना यह मूल मन्त्र

  • जरूरी सेवाओं के शुरू होने के साथ ही और बडी जिम्मेदारी

  • मुकम्मल इलाज व वैक्सीन न आने तक इसी में सबकी भलाई


यूरेशिया संवाददाता


मेरठ । कोरोना वायरस यानि कोविड-19 को सही मायने में मात देना है तो हम सभी को श्दो गज की दूरी के अनुशासन को अपने जीवन में उतारना होगा । बहुत लम्बे समय तक देश को लाक डाउन के हवाले नहीं किया जा सकता । सरकार द्वारा जरूरी सेवाओं और दफ्तरों में कामकाज शुरू करने के साथ ही दो गज की यह जिम्मेदारी और बढ जाती है । इस जिम्मेदारी को तब तक निभाने की बडी जरूरत है जब तक कि इस वायरस को पूरी तरह से मात देने वाली वैक्सीन या मुकम्मल इलाज की व्यवस्था नहीं हो जाती ।
  लाला लाजपत राय मेडिकल कालेज के  प्राचार्य डा आर सी गुप्ता का कहना है कि इस समय देश एक ऐसे वायरस के खिलाफ जंग लड रहा है जो कि अदृश्य व अनजाना है । ऐसे में उससे सुरक्षित रहना है तो जरूरी सावधानी तो बरतनी ही होगी। इस बारे में लोगों को बराबर जागरूक भी किया जा रहा है कि कोरोना के संक्रमण से बचना है तो सार्वजानिक स्थलों पर एक दूसरे से कम से कम दो गज यानि छह फुट की दूरी बनाकर रखें क्योंकि संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने से निकलने वाली बूंदों के संपर्क में आने से आप भी संक्रमण के शिकार हो सकते हैं । इसके लिए जरूरी है कि किसी भी स्थल पर भीडभाड से बचना होगा । खरीदारी के वक्त भी इसका पालन करना होगा । किसी भी दुकान -शॉप पर एक समय पर पांच लोगो से ज्यादा की भीड से बचना होगा ।
 इस बीच पूरे देश में शराब की दुकानों पर उमडने वाली भीड और किसी भी तरह के सुरक्षा मानकों का पालन न करने की तस्वीरें विचलित करने वाली हैं । हर कदम पर टोकाटाकी के बाद ही सुरक्षा मानकों के पालन करने की आदत को छोडकर अब खुद से इसको अपने जीवन में ढालना होगा, क्योंकि इसी में आपकी, आपके परिवार और समुदाय की भलाई है ।
कार्यालयों में भी एक उचित दूरी पर ही बैठकर कार्य करना होगा । घर से बाहर निकलने पर मास्क लगाना भी बहुत जरूरी होगा । वायरस घर-दुकान या कार्यालय की सतह और सामानों पर भी हो सकते हैं, इसलिए साफ-सफाई पर भी ज्यादा ध्यान देना जरूरी है । ऐसे स्थलों और दफ्तरों की सफार्ई के लिए ब्लीचिंग पाउडर या कीटाणुनाशक का इस्तेमाल कर सकते हैं । इन स्थलों के बार-बार इस्तेमाल होने के चलते काउंटर, दरवाजों, कुण्डियों आदि के जरिये संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है, इसलिए उनकी भी विधिवत सफाई का ख्याल रखें ।


जीवन में इनको अपनाएं-कोरोना से सुरक्षा पाएं.


1. हाथों को साबुन-पानी से बार-बार अच्छी तरह से धुलें
2. सार्वजानिक स्थलों पर दूसरे से दो गज दूर रहें
3. बाहर निकलें तो मास्क जरूर लगायें
4. नाक,मुंह और आँख को न छुएं
5. खांसने, छींकने और थूकने के शिष्टाचार को समझें
6. इधर-उधर पडी चीजों को अनावश्यक न छुएं
7. ध्यान, योगा और प्राणायाम करें
8. रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाये रखने के लिए पौष्टिक आहार लें
9. बुजुर्ग, छोटे बच्चे व गर्भवती तभी बाहर निकलें जब बहुत जरूरी हो
विशेष जानकारी के लिए संपर्क करें:-
कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखने पर जैसे सांस फूलना या अत्यधिक तेज बुखार होने पर तुरंत स्वास्थ्य विभाग के टोल फ्र ी नंबर 1800-180-5145 अथवा अपने जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी- जिला सर्विलेंस अधिकारी से तुरंत संपर्क करें ।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां