राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

डीएम की अनुमति मिलने के बाद ही कराए जाएंगे निर्माण कार्य : नीतू सिंह



  • नगर पंचायत बोर्ड मीटिंग में सभासदों ने दिए 15 प्रस्ताव


यूरेशिया संवाददाता


फलावदा-मंगलवार को देश में चल रहे कोरोना वायरस संक्रमण के संबंध में नगर पंचायत चेयरमैन अब्दुस समद की अध्यक्षता में पंप नंबर दो पर खुले में बोर्ड मीटिंग आयोजित की गई। बोर्ड मीटिंग में समस्त सभासद गण उपस्थित रहे। जिसमें से सात सभासदों ने उपस्थिति रजिस्टर पर हस्ताक्षर किए। बोर्ड मीटिंग में पूर्व चेयरमैन सैयद अलीमुद्दीन व सभासद शहजाद कुरैशी की आकस्मिक मृत्यु होने के कारण 2 मिनट का मौन रखा गया। मीटिंग में कोरोना वायरस संक्रमण के संबंध में चर्चा की गई। जिला अधिकारी मेरठ के आदेश अनुसार कोरोना निगरानी समिति का गठन किया गया। प्रत्येक वार्ड के सभासद को उसके अपने वार्ड का अध्यक्ष बनाया गया। जिसके संबंध में समस्त सभासदों को अवगत कराया गया। प्रत्येक सभासद जनता के हित में अपने वार्ड में अध्यक्ष के रूप में पूर्ण जिम्मेदारी निभाएंगे। इसकी सूचना तत्काल जिलाधिकारी मेरठ को भेजी गई। सभासदों का दायित्व होगा कि वह अपने वार्ड में बाहर से आने वाले व्यक्तियों की सूचना तत्काल नगर पंचायत फलावदा में दे। जनता को जागरूक कर लॉकडाउन के नियमों का पालन कराए। पांच सभासदों द्वारा लिखित में दिए गए प्राप्त प्रस्तावों में अधिकतर प्रस्ताव कोरोना संक्रमण के संबंध में सैनिटाइजर, मास्क आदि के प्राप्त हुए। कुछ सभासदों ने निर्माण कार्यों के संबंध में चर्चा की। जिसके बारे में अधिशासी अधिकारी नीतू सिंह द्वारा बताया गया कि निर्माण कार्य जिलाधिकारी मेरठ व अपर जिलाधिकारी प्रशासन मेरठ से अनुमति मिलने के बाद ही निर्माण कार्य शुरू कराए जाएंगे। मीटिंग में गरीबों को राशन बटवाने के संबंध में भी चर्चा की गई व सहमति बनी। बोर्ड मीटिंग सकुशल संपन्न हुई। मीटिंग में लॉक डाउन के नियमों का पालन किया गया। बोर्ड मीटिंग में चेयरमैन अब्दुस समद, अधिशासी अधिकारी नीतू सिंह, समस्त सभासदगण, सरदार अहमद कर समाहर्ता आदि मौजूद रहे। वही सभासद सोहनवीर, सलीम ने पंचायत चेयरमैन पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। कुछ देर बाद दोनों सभासद बस स्टैंड पर स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गए। उन्होंने कहा कि बोर्ड मीटिंग में हर बार उनके साथ धोखा करके छलने का काम किया जाता है। दोनो आत्महत्या के इरादे से टंकी पर चढ़े। काफी देर गहमा गहमी होने के बाद थाना प्रभारी राकेश कुमार पुंडीर के हस्तक्षेप के चलते सभासदों को नीचे उतारा गया। थाना प्रभारी राकेश कुमार पुंडीर ने मामला शांत कराते हुए सभासदों को भेज दिया।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां