राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

बागपत में जमीनी विवाद को लेकर किसान की फावड़े से काटकर हत्या


विश्व बंधु शास्त्री
बागपत।  उत्तर प्रदेश में बागपत के दोघट थाना क्षेत्र में जमीनी विवाद को लेकर एक किसान की फावड़े से गर्दन काटकर हत्या कर दी गई। युवक का लहूलुहान शव मंगलवार को खेत में पड़ा मिला। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना की जांच पड़ताल कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
दोघट थाना इंचार्ज रमेश सिंह सिद्धू ने बताया कि नंगला कनवाड़ा गांव निवासी किसान यशपाल (32) पुत्र धर्मपाल मंगलवार को मोटरसाइकिल से घर से अपने खेत में जा रहे थे। बताया गया कि जैसे ही वह खेत के नजदीक चकरोड़ पर पहुंचा तो वहाँ पहले से ही घात लगाए बैठे चार-पांच लोगों ने उसे घेर लिया और फावड़े से हमला कर हत्या कर दी।
वारदात के बाद हमलावर फरार हो गए। सूचना मिलते ही पुलिस और परिजन मौके पर पहुंचे। पुलिस अधीक्षक प्रताप गोपेन्द्र सिंह व पुलिस क्षेत्राधिकारी बड़ौत आलोक कुमार घटना स्थल पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। सीओ आलोक का कहना है कि जमीनी रंजिश में हत्या की गई है। थाना प्रभारी रमेश सिंह सिद्धू ने बताया कि घटना के संबंध में मृतक के चचेरे भाई योगेश ने चार आरोपियों को नामजद करते हुए हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। 


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां