केनरा बैंक(पूर्व सिंडिकेट) की ब्रांच का हुआ शुभारंभ

Image
फोटो परिचय:-शुभारंभ करते हुए रीजनल मैनेजर देवराज सिंह  डॉ असलम यूरेशिया बहसूमा। नगर के हसापुर रोड पर केनरा बैंक सिंडिकेट की ब्रांच स्थानांतरण करने के बाद शुभारंभ किया गया। शुभारंभ करने के बाद रीजनल मैनेजर देवराज सिंह ने कहा कि केनरा बैंक की नई जगह ब्रांच खोलने से ग्राहकों को परेशानी का सामना करना नहीं पड़ेगा। आसानी से अपना पैसा जमा या निकाल सकते हैं। अलग-अलग जमा करने एवं निकालने की डेक्स बनाई गई है। जिससे ग्राहकों को आसानी से पैसा जमा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 114 वर्ष पूर्व हमारे संस्थापक अंबेबल सुब्बाराव पई मंगलूर कर्नाटक में एक संस्थान की न्यू रखी गई जो कि आज भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है और 1910 में केनरा बैंक के रूप में पल्लवित हुआ। उन्होंने कहा कि सुब्बाराव पई एक महान मानव प्रेमी होने के साथ-साथ समाजसेवी भी थे। जिनके विचारों में एक अच्छा बैंक ने केवल समाज का वित्तीय हृदय होता है। उन्होंने कहा कि केनरा बैंक की 10403 शाखाएं और 13406 एटीएम जो 8.48.00.000 लोगों से ज्यादा बढ़ते आधार की सभी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। विदेश में बैंक की 8 शाखाएं हैं। डिविजनल मैनेजर अनुर

अपात्र राशन कार्ड धारक अपना राशन कार्ड सरेंडर कर दे. नही तो होगी रिकवरी

यूरेशिया संवाददाता


मेरठ लॉक डाउन के चलते सरकार भले ही गरीब और जरूरतमंदों की मदद के लिये  सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान पर दो रुपये किलो गेन्हु ओर तीन रुपये किलो चावल के साथ साथ फ़्री चावल  का वितरण करा रही है  लेकिन आज भी काफी लोग इस मदद से वंचित हैं। कई बार फ़ार्म भरे गये ओन लाइन भी किया गया लेकिन उनका राशन कार्ड नही बना बावजूद इसके इस लाभ का फ़ायदा कुछ सरकारी व्यक्ति ओर चार पहिया वाहन. स्वामी  उठा रहे है सरकार ने सभी गरीब परिवार को पेट भर भोजन मिल सके, इसके लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम बनाया है। इसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों में दो लाख रुपये और शहरी क्षेत्रों में तीन लाख रुपये सालाना आय वालो को इस का लाभ मिलेगा लेकिन आज भी काफ़ी गरीब, और विधवाओं का राशन कार्ड नहीं बन पाया है।लेकिन जिनके घर मे ए सी कार है उनके राशन कार्ड बने हुये है ओर वो राशन की लाइन मे लगने की बजाय राशन डीलर पर किसी छुट भैया नेता का नाम लेकर बिना लाइन मे लगे राशम ले आते है ऐसे राशन कार्ड होने का खुलासा होने पर आपूर्ति विभाग ने  काफ़ी संख्या मे राशन कार्ड निरस्त कर दिए हैं। लेकिन आज भी कुछ ऐसे राशन कार्ड धारक है जिन्की आय तीन लाख सालाना से उपर है उनके घर मे चार पहिया वाहन ओर ऎ सी भी है ओर उनके राशन कार्ड बरकरार है फ़िल्हाल शासन ने आपूर्ति  विभाग के अफसरों को आदेश दिया है कि गलत सूचना देकर राशन कार्ड बनाने वालों की जांच करे और पकड़े जाने पर संबंधित व्यक्ति का राशन कार्ड निरस्त करने के साथ ही उठाए गए खाद्यान्न की कीमत वसूल करें और कानूनी कार्रवाई भी करें। जिला पूर्ति अधिकारी नीरज सिंह  ने बताया कि गलत जानकारी से बने राशन कार्ड निरस्त करने की कवायद शुर कर दी गई है।  गलत तरीके से बनाए गए सभी राशन कार्ड को निरस्त किया जाएगा। इसके अलावा नए आवेदनों की गंभीरता से जांच कराई जा रही है।--..


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां