मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ३२३० लोगों ने उपचार का लाभ उठाया

युरेशिया संवाददाता    मेरठ। रविवार को जिले के ५७ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी) पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया गया। पूरे जनपद में करीब ३२३० लोगों ने मेले का लाभ उठाया। आरोग्य मेले के लिये १०७ चिकित्सकों ४४३ पैरा मेडिकल स्टाफ की सेवाएं ली गयीं । इस दौरान ५०७ आयुष्मान कार्ड वितरित किये गये।  मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ११७६  पुरुष, ११६७ महिलाओं,  ३८७ बच्चों ने पंजीकरण कराया। मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में १४९४ कोरोना (एंटीजन) जांच की गयी। कोविड हेल्प डेस्क पर २०४१ लोगों का परीक्षण किया गया। स्वास्थ्य मेले में सबसे ज्यादा मरीज ७४५ चर्म रोग के आये।  मेले में मौसमी बीमारियों की जांच के अलावा प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के साथ गर्भवती, बाल और किशोर स्वास्थ्य से जुड़ी जांच पर खास जोर रहा। नवदम्पति को परिवार नियोजन के प्रति जागरूक करते हुए उनकी पसंद के परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध कराये गये। मेले में कोविड प्रोटोकाल का पूरी तरह से पालन किया गया।   मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा अखिलेश मोहन ने बताया सभी पीएचसी पर आयोजित मेले में १२४६ पुरुषों, १४५४ महिलाओं व ४१९ बच्चों का पं

सरकारी कर्मचारी व जिनके घर मे ए सी कार.... सस्ते राशन के लिये वही कर रहे ज्यादा हाहाकार.....

यूरेशिया संवाददाता


मेरठ ...सरकार ने सभी गरीब परिवार को पेट भर भोजन मिल सके, इसके लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम बनाया है। इसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों में दो लाख रुपये और शहरी क्षेत्रों में तीन लाख रुपये सालाना आय वाले परिवारों को दो रुपये किलो गेहूं और तीन रुपये किलो चावल दिया जाना है। जान कारी मिली है इस लाभ का फायदा कुछ सरकारी व्यक्ति और जिनके घर में ए सी कार तक लगे हुए है वो भी ले रहे है इन्होने जैसे तैसे सेटिंग कर अपने राशब कार्ड तो बनवा लिए ..लेकिन ये गरीब जनता की तरह लाइन मे ना लग राशन डीलर पर आरोप लगा दवाब बनाते है ताकि उन्हें बिना लाइन आराम से राशन मिल सके .आज भी काफ़ी गरीब, और विधवाओं का राशन कार्ड नहीं बन पाया है। ए सी कार वालो के राशन कार्ड बना होने का खुलासा होने पर आपूर्ति विभाग ने  काफ़ी संख्या मे राशन कार्ड निरस्त कर दिए हैं। लेकिन आज भी कुछ ऐसे राशन कार्ड धारक है जिन्की आय तीन लाख सालाना से उपर है उनके घर मे चार पहिया वाहन भी है ओर वो सस्ते गल्ले की दुकान पर अक्सर आराम से खड़े राशन लेते नजर आते है. फ़िल्हाल शासन ने आपूर्ति  विभाग के अफसरों को आदेश दिया है कि गलत सूचना देकर राशन कार्ड बनाने वालों की जांच करेंऔर पकड़े जाने पर संबंधित व्यक्ति का राशन कार्ड निरस्त करने के साथ ही उठाए गए खाद्यान्न की कीमत वसूल करें और कानूनी कार्रवाई भी करें। जिला पूर्ति अधिकारी नीरज सिंह  ने बताया कि गलत सूचना पर बने कुछ राशन कार्ड निरस्त करने की कवायद शुर कर दी गई है। राशन वितरण समाप्त होने के बाद सत्यापन किया जाएगा। गलत तरीके से बनाए गए राशन कार्ड को निरस्त किया जाएगा। इसके अलावा नए आवेदनों की गंभीरता से जांच कराई जा रही है।--......


Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट