मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ३२३० लोगों ने उपचार का लाभ उठाया

युरेशिया संवाददाता    मेरठ। रविवार को जिले के ५७ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी) पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया गया। पूरे जनपद में करीब ३२३० लोगों ने मेले का लाभ उठाया। आरोग्य मेले के लिये १०७ चिकित्सकों ४४३ पैरा मेडिकल स्टाफ की सेवाएं ली गयीं । इस दौरान ५०७ आयुष्मान कार्ड वितरित किये गये।  मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ११७६  पुरुष, ११६७ महिलाओं,  ३८७ बच्चों ने पंजीकरण कराया। मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में १४९४ कोरोना (एंटीजन) जांच की गयी। कोविड हेल्प डेस्क पर २०४१ लोगों का परीक्षण किया गया। स्वास्थ्य मेले में सबसे ज्यादा मरीज ७४५ चर्म रोग के आये।  मेले में मौसमी बीमारियों की जांच के अलावा प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के साथ गर्भवती, बाल और किशोर स्वास्थ्य से जुड़ी जांच पर खास जोर रहा। नवदम्पति को परिवार नियोजन के प्रति जागरूक करते हुए उनकी पसंद के परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध कराये गये। मेले में कोविड प्रोटोकाल का पूरी तरह से पालन किया गया।   मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा अखिलेश मोहन ने बताया सभी पीएचसी पर आयोजित मेले में १२४६ पुरुषों, १४५४ महिलाओं व ४१९ बच्चों का पं

सपा नेता अतुल प्रधान पर दर्ज हुआ मुकदमा



  • -लॉकडाउन का उल्लंघन करने का लगा आरोप


यूरेशिया संवाददाता ताज मोहम्मद


मेरठ-फलावदा थाना प्रभारी राकेश कुमार पुंडीर ने सपा नेता अतुल प्रधान व उनके सहयोगी नितिन कटारिया के खिलाफ लॉकडाउन का उल्लंघन करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया है।
सोमवार की दोपहर लगभग ढाई बजे सपा नेता अतुल प्रधान अपने सहयोगी नितिन कटारिया के साथ फलावदा थाना क्षेत्र के ग्राम निहोरी में स्थित मंदिर के पास 50, 60 लोगों को इकट्ठा करके राशन बांट रहा था। आरोप है कि सपा नेता द्वारा बिना किसी अनुमति से मंदिर के समीप लोगो को इकट्ठा कर राशन बांटा जा रहा था। वही पचास साठ लोगों की भीड़ लगी थी। सोशल डिस्टेंस का प्रयोग भी नहीं किया जा रहा था। सूचना पर पहुंची पुलिस को मौके पर भीड़ दिखाई दी। निहोरी निवासी एक युवक ने पुलिस को बताया कि गांव चरला के रास्ते अतुल प्रधान अपने सहयोगी नितिन कटारिया के साथ राशन बांट कर चला गया है। पुलिस ने सपा नेता व उसके सहयोगी नितिन कटारिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। वही सपा नेता अतुल प्रधान का कहना है कि राशन बांटने के ऊपर मुकदमा दर्ज कराया गया है। गरीबों की सेवा करना उनकी प्राथमिकता रहती है। हर संभव गरीबों की मदद की जाएगी। सत्ता के दबाव व राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते उनके ऊपर मुकदमा दर्ज किया गया है। सत्ताधारी नेता जनता के बीच पहुंचकर बुनियादी स्तर पर गरीबो की मदद करे। जनता की मदद करने के बजाय सत्ताधारी नेता उन पर मुकदमा दर्ज कराकर गरीब जनता की मदद करने से रोकने का प्रयास कर रहे है।। ऐसा सम्भव नही है। वह गरीब मजलूम असहाय लोगों की हर संभव मदद करने के लिए प्रयास करते रहेंगे।


Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट