मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ३२३० लोगों ने उपचार का लाभ उठाया

युरेशिया संवाददाता    मेरठ। रविवार को जिले के ५७ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों (पीएचसी) पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया गया। पूरे जनपद में करीब ३२३० लोगों ने मेले का लाभ उठाया। आरोग्य मेले के लिये १०७ चिकित्सकों ४४३ पैरा मेडिकल स्टाफ की सेवाएं ली गयीं । इस दौरान ५०७ आयुष्मान कार्ड वितरित किये गये।  मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में ११७६  पुरुष, ११६७ महिलाओं,  ३८७ बच्चों ने पंजीकरण कराया। मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में १४९४ कोरोना (एंटीजन) जांच की गयी। कोविड हेल्प डेस्क पर २०४१ लोगों का परीक्षण किया गया। स्वास्थ्य मेले में सबसे ज्यादा मरीज ७४५ चर्म रोग के आये।  मेले में मौसमी बीमारियों की जांच के अलावा प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के साथ गर्भवती, बाल और किशोर स्वास्थ्य से जुड़ी जांच पर खास जोर रहा। नवदम्पति को परिवार नियोजन के प्रति जागरूक करते हुए उनकी पसंद के परिवार नियोजन के साधन उपलब्ध कराये गये। मेले में कोविड प्रोटोकाल का पूरी तरह से पालन किया गया।   मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा अखिलेश मोहन ने बताया सभी पीएचसी पर आयोजित मेले में १२४६ पुरुषों, १४५४ महिलाओं व ४१९ बच्चों का पं

लॉकडाउन के कारण शुद्ध हुआ वातावरण, निर्मल हुआ गंगा-यमुना का पानी 

यूरेशिया संवाददाता


मेरठ। कोरोना वायरस के कारण भारत में हुए देशव्यापी लॉकडाउन के कारण जहां लोग पने घरों में कैद हो गए है और कामकाज पूरी तरह से ठप हो गए है। वहीं लॉकडाउन का सकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिला। लोगों के घरों में कैद होने से सड़को पर वाहन नहीं दौड़ रहे जिसके चलते प्रदूषण में भारी गिरावट देखी गई। इतना ही नहीं देश में नदियों पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। सरकार के लाखों करोंड़ों खर्च करने के बावजूद जहां गंगा यमुना और अन्य बाकी नदीयां साफ नहीं हो रही थी..वहीं लॉकडाउन ने मात्र 18 दिनों में ये काम कर दिया। 


जैसे-जैसे लोग अपने घरों में कैद होते गए वैसे-वैसे प्रकृति अपने असली स्वरुप में नजर आने लगी। वातावरण की बात करे तो आबोहवा शुद्ध हो गई तो वहीं यमुना-गंगा का पानी भी निर्मल हो गया। नदियों के आस-पास मौजूद लोगों का कहना है कि पहले यमुना का पानी इतना गंदा था कि पीना तो दूर हाथ धोने का भी मन नहीं करता था। लेकिन लॉकडाउन के बाद से पानी खुद-ब-खुद शुद्ध हो गया है। अब इस पानी में आचमन का भी मन करता है।  


मेरठ देश के प्रदूषित शहरों की सूची में मेरठ सातवें नंबर पर दर्ज किया गया था। लगातार गिर रही हवा की गुणवत्ता आने वाले दिनों में और भी खराब होने का अंदेशा लगायाजा रहा था। कई जगह कूड़ा जलाने से भी प्रदूषण बढ़ रहा था। लेकिन लॉकडाउन के बाद से स्थिति में नियंत्रण हुआ है। और रविवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स 77 तक दर्द किया गया। जो काफी हद तक सही माना जाता है। 


एक्यूआई का मानक


50 तक एक्यूआई सही होता है।  50-100 तक संतोषजनक, 101-200 तक मध्यम, 201-300 तक खराब, 301-400 तक बहुत खराब, 401-500 तक सेहत के लिए खतरनाक माना जाता है।


Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट