विम्स मेडिकल काॅलेज में "मिशन शक्ति अभियान एवं महिला सशक्तिकरण" पर दो दिवसीय आत्मरक्षा शिविर का आयोजन

Image
हिमा दास, बछेन्द्रीपाल, मैरीकाॅम, किरन बेदी जैसी विख्यात मातृशक्ति ने केवल मानसिक मजबूती एवं सघर्ष के दम पर पूरी दुनिया में भारत का डंका बजाया- डाॅ सुधीर गिरि, चेयरमैन, वेंक्टेश्वरा समूह अनीस खान यूरेशिया ब्यूरो मेरठ। राष्ट्रीय राजमार्ग बाईपास स्थित श्री वेंक्टेश्वरा विश्वविद्यालय द्वारा संचालित विम्स मेडिकल काॅलेज में मिशन शक्ति अभियान के तहत महिला सशक्तिकरण की दिशा में प्रभावी पहल करते हुए मेडिकल एवं नर्सिंग की छात्राओ के लिए दो दिवसीय आत्मरक्षा शिविर का शानदार आयोजन किया गया। इस अवसर पर अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के लिए विभिन्न क्षेत्रो में राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी शानदार उपस्थिति दर्ज कराने वाली 82 महिलाओ एवं बालिकाओ को लक्ष्मीबाई नारी/बालिका शक्ति सम्मान 2021 से नवाजा गया। विश्वविद्यालय के डाॅ सीवी रमन सभागार में आयोजित दो दिवसीय आत्मरक्षा शिविर एवं लक्ष्मीबाई नारी/ बालिका शक्ति सम्मान-2021 समारोह का शुभारम्भ वेंक्टेश्वरा समूह के चेयरमैन डाॅ सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डाॅ राजीव त्यागी, डीन मेडिकल बिगे्रडियर डाॅ सतीश अग्रवाल, नर्सिंग डीन डाॅ एना ब्राउन, विख्यात स्

जनपद हापुड़ की नवीन मंडी में लॉक डाउन की उड़ रही धज्जियां प्रशासन है आंखें मूंद


अतुल त्यागी  प्रभारी


हापुड जनपद हापुड़ की नवीन कृषि  मंडी में उड़ रही है लॉकडाउन की धज्जियां यहां सुबह होते ही इकठ्ठे हो जाते हैं कई हजार लोग जिनमें से कुछ लोग रेड जोन एरिया से भी निकल कर आते हैं  जोकि इस समय बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकता है हमारी टीम ने यह जानने की कोशिश  कि के यह लोग रेड जोन एरिया से बाहर कैसे आ जाते हैं मगर किसी के भी पास कोई संतोष जनक जवाब नहीं था



  • आड़ती लेते है मन माने रैट


शासन से खाने पीने के चीजों की दुकानों व मंडी के लिए समय निर्धारित किया गया है मगर ऐसा कहीं भी नहीं हो पा रहा है कि शासन के आदेश का पालन किया जा रहा हो अब चाहे वह कोई सामान हो फल हो या सब्जी हो यहां तक कि शासन के आदेश तो यह भी है कि कोई भी सामान निर्धारित मूल्य से ज्यादा पर नही मिलेगा और हर दुकानदार शासन से निर्धारित रेट लिस्ट अपनी दुकान पर लगायेगा मगर रेट लिस्ट कहीं लगी है तो कहीं नहीं है यहां तक के कुछ लोगों का तो यह भी कहना है कि हमें इसके बारे में नहीं मालूम और यह वही लोग हैं जो अपनी मर्जी से फल व सब्जियों के रेट बहुत ज्यादा हाई करके बेच रहे हैं जिसके कारण आम आदमी बहुत ही परेशान हो चुका है हमारी टीम ने मंडी समिति के सचिव से भी बात की जिनसे हमने शासन से जारी रेट लिस्ट के बारे में भी पूछा उनका कहना था कि हमने रेट लिस्ट सभी व्यापारियों को  दी है जब हमारी टीम ने वहां की भीड़ के बारे में भी पूछा तो उन्होंने कहा  की भीड़ को कंट्रोल करना पुलिस का काम है मंडी समिति का नहीं अब देखना यह है कि क्या पुलिस वहां पर हर सुबह इकट्ठा होने वाली भीड़ पर लगाम  लगा सकेगी या नहीं अगर वहां पर पुलिस प्रशासन लगाम लगाने में नाकाम रहा तो यह बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकता है



  • मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं था दूर तक नाम


नवीन मंडी के अंदर ना ही किसी के मुंह पर मार्क्स था और ना ही  शौशल डिसटेंन्स  का पालन  तो दूर तक भी कोई नामोनिशान नहीं था क्योंकि वहां सुबह होते ही भीड़ हजारों में इकट्ठा हो जाती है जो इस वक्त कोरोनावायरस के चलते बहुत ही घातक है



  • मंडी समिति के आढ़ती नहीं मानते शासन से जारी  रेट लिस्ट


नवीन मंडी के कई आढ़तियों का कहना है कि हम नहीं मानते शासन से जारी रेट लिस्ट को उनका कहना है कि शासन ने जो रेट जारी किए हैं उन्हे हम नही मानते उन रेटों पर शासन ही दे देगा सामान हम तो अपने हिसाब से ही बेचेंगे अगर हमारा सामान बच जाता है तो हम मन्दा भी तो बेचते हैं आढ़ती का कहना था कि हमें सब कुछ देखना पड़ता है इसलिए हम अपने हिसाब से ही रेट लगाते हैं  जिसे लेना है ले जिसे नहीं लेना वह मत ले मगर रेट हमारे ही होंगे ने की शासन के अब देखने वाली बात है की प्रशासन क्या कार्यवाही अमल में लाता है सदर उपजिलाधिकारी सत्यप्रकाश शर्मा  का कहना है मामला हमारे संज्ञान में आया है कल से मुनासिब कार्यवाही अमल में लाई जाएगी


Popular posts from this blog

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मुरादनगर में दर्दनाक हादसा, अंतिम संस्कार में गए लोगों पर गिरने से 23 की मौत, CM ने मांगी रिपोर्ट