केनरा बैंक(पूर्व सिंडिकेट) की ब्रांच का हुआ शुभारंभ

Image
फोटो परिचय:-शुभारंभ करते हुए रीजनल मैनेजर देवराज सिंह  डॉ असलम यूरेशिया बहसूमा। नगर के हसापुर रोड पर केनरा बैंक सिंडिकेट की ब्रांच स्थानांतरण करने के बाद शुभारंभ किया गया। शुभारंभ करने के बाद रीजनल मैनेजर देवराज सिंह ने कहा कि केनरा बैंक की नई जगह ब्रांच खोलने से ग्राहकों को परेशानी का सामना करना नहीं पड़ेगा। आसानी से अपना पैसा जमा या निकाल सकते हैं। अलग-अलग जमा करने एवं निकालने की डेक्स बनाई गई है। जिससे ग्राहकों को आसानी से पैसा जमा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 114 वर्ष पूर्व हमारे संस्थापक अंबेबल सुब्बाराव पई मंगलूर कर्नाटक में एक संस्थान की न्यू रखी गई जो कि आज भारत के प्रमुख वाणिज्यिक बैंकों में से एक है और 1910 में केनरा बैंक के रूप में पल्लवित हुआ। उन्होंने कहा कि सुब्बाराव पई एक महान मानव प्रेमी होने के साथ-साथ समाजसेवी भी थे। जिनके विचारों में एक अच्छा बैंक ने केवल समाज का वित्तीय हृदय होता है। उन्होंने कहा कि केनरा बैंक की 10403 शाखाएं और 13406 एटीएम जो 8.48.00.000 लोगों से ज्यादा बढ़ते आधार की सभी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। विदेश में बैंक की 8 शाखाएं हैं। डिविजनल मैनेजर अनुर

फॉर्म में छात्र बदल सकते हैं ये तीन विकल्प

यूरेशिया संवाददाता


मेरठ। जिन छात्र-छात्राओं ने बीएड एंट्रेंस का आवेदन कर दिया है, लेकिन किन्हीं कारणों से त्रुटि हो गई है तो विवि ने केवल तीन विकल्पों में ही बदलाव की छूट दे दी है। छात्र-छात्रा 12-15 मार्च तक फॉर्म में संशोधन कर सकते हैं। इसमें पहला विकल्प रहेगा लिंग। इसके तहत स्त्री, पुरुष, वैवाहिक स्तर तथा पति के नाम में संशोधन किया जा सकता है। दूसरा विकल्प है वर्ग। यदि किसी छात्र ने स्नातक स्तर पर कला, विज्ञान, वाणिज्य या कृषि वर्ग को भरने में कोई गलती कर दी है तो वे इसमें संशोधन कर बदल सकते हैं। इसके लिए छात्रों को उचित डॉक्यूमेंट भी अपलोड करना होगा। तीसरा विकल्प है भारांक। विवि के अनुसार क्रम संख्या ए से एफ तक यदि भारांक में किसी तरह की सूचना देनी है अथवा उसमें बदलाव करना है तो उचित डॉक्यूमेंट अपलोड करते हुए भारांक का चयन करें। छात्रों को अधिकतम 25 भारांक ही देय हैं।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां