राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

  मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले में ५२३५ लोगों ने करायी जांच


  • नगरीय स्वास्थय केन्द्र पर सांसद राजेन्द्र ने किया मेले का शुभारंभ


यूरेशिया संवाददाता 
मेरठ । रविवार को पूरे जिले में ३१ ग्रामीण २६ शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर मुख्य मंत्री आरोग्य मेले का आयोजन किया गया। इस दौरान १८९७ पुरूष ३१४७ महिला एंव १२३१ बच्चे मेले के दौरान चिकित्सकों द्वारा देखे गये। मेले में सबसे ज्याद त्वचा रोगी ने अपनी जांच करायी।
   कचहरी स्थित पुलिस लाइन नगरीय स्वास्थ्य केन्द्र पर स्वास्थ्य मेले का शुभारंभ सांसद राजेन्द्र अग्रवाल ,सीएमओ डा राजकुमार ने संयुक्त रूप से रीबन काटकर किया। उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा सरकार की प्राथमिकता है प्रदेश से बीमारियों को दूर करने के लिये हर रविवार को प्रदेश भर में मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की प्रशसा करते हुए गत वर्ष के मुकाबले इस बार मरीजों की संख्या काफी कम हुई है। इस दौरान मेले में लगे स्टॉल का निरीक्षण करते हुए कर्मचारियों व चिकि त्सकों से जानकारियां प्राप्त की।
 सीएमओ डा. राजकुमार ने बताया मेले के दौरान एनीमिया के १७०, टीबी के ४८ संभावित टीबी रोगी, ४७१ ब्लड प्रेसर मरीज , ४८९ मधुमेह रोगियों की जांच की गयी। इसके अतिरिक्त १३७६ त्वचा रोगी, ३२५ प्रसव पूर्व जांच,७७ कुपोषित बच्चें की जांच , इसके अतिरिक्त १६७५ रोगियों की जांच की गयी। जिसमें १६१ को मेडिकल, ३१ जनरल सर्जरी ५७ की नेत्र सर्जरी, २६ की ईएनटी सर्जरी, ३६ की गायनिक सर्जरी की गयी। इस दौरान ६२९ गोल्डन कार्ड का वितरण किया गया। उन्होनें बताया स्वास्थ्य शिविरों में १४० चिकित्सकों ७८२ पैरामेडिकल स्टॉफ ने भाग लिया। शाम को जिलाधिकारी अनिल ढीगडा द्वारा आरोग्य मेले की समीक्षा बैठक की गयी।
 फोटो ०९-१० मातृ मृत्य अनुपात में अंकों की आयी कमी
 ० दर १३० से घटकर  १२२ पहुंची
मेरठ ।  मातृ मृत्यु अनुपात ;एमएमआरद्ध में एक वर्ष में 8 अंकों की कमी आई है। यह आंकडा एमएमआर पर भारत के रजिस्ट्रार जनरल के नवीनतम विशेष बुलेटिन का है। यह कमी इस लिहाज से भी महत्वपूर्ण है कि इसका अर्थ सालाना लगभग 2000 अतिरिक्त गर्भवती महिलाओं की जान बचना है। 2014-16 में 130 लाख जीवित जन्म से घटकर 2015-17 में 122 लाख जीवित जन्म एमएमआर हो गया है 6-2 प्रतिशत की कमी। इसका अर्थ है कि देश ने 2025 तक एमएमआर कम करने का सतत विकास लक्ष्य एसडीजी हासिल करने में प्रगति की है। इस तरह 2030 से पांच साल पहले यह लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा।
 सीएमओं ने बताया राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 के तहत 2020 तक 100 जीवित जन्म के एमएमआर का महत्वाकांक्षी लक्ष्य 11 राज्यों ने हासिल कर लिया है। ये राज्य हैं केरल, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, झारखंड, तेलंगाना, गुजरात, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक और हरियाणा। नवीनतम एमएमआर की एक अन्य महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि झारखंड, बिहार, छत्तीसगढ, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड राज्यों के लिए पहली बार एमएमआर स्वतंत्र रूप से प्रकाशित किए गए हैं। कुल सात राज्यो ंकर्नाटक, महाराष्ट्र, केरल, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, राजस्थान, तेलंगाना ने एमएमआर में कमी दर्ज की है जो राष्ट्रीय औसत 6.2 प्रतिशत से अधिक या बराबर है।
इस सफलता का मार्ग प्रशस्त करने वाले स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के विभिन्न प्रोग्रामों की पहल का असर हुआ है। जिसमें आयुष्मान भारत हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर जिनमें बीमारी की रोकथाम स्वास्थ्य संवर्धन, उपचार, पुनर्वास एवं दर्द निवारक सेवाएं शामिल हैं। आयुष्मान भारत हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर में खास कर महिलाओं के ओरलए सर्वाइकल और ब्रेस्ट कैंसर की रोकथाम की नि:शुल्क स्क्रीनिंग की जाती है।
 


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां