सुबह 8 बजे से वोटिंग शुरू, नोटा का नहीं है विकल्प, हर हाल में देना होगा वोट

Image
मेरठ  ( युरेशिया) । स्नातक एवं शिक्षक चुनाव के लिए आज 1 दिसंबर 2020 को वोट डाले जा रहे हैं। जिसके लिए विक्टोरिया पार्क से सोमवार को ही पोलिंग पार्टी रवाना हुई थीं। जनपद मेरठ में स्नातक के लिए 77 व शिक्षक के लिए 30 बूथ बनाए गए हैं। एक पोलिंग पार्टी में एक पीठासीन अधिकारी व 3 मतदान अधिकारी मौजूद हैं। सुबह आठ बजे से वोटिंग शुरू हो गई है। जो शाम पांच बजे तक चलेगी।अधिकारी भी लगातार बूथ पर निरीक्षण कर रहे हैं। जिलाधिकारी के. बालाजी ने बताया कि मेरठ खंड स्नातक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 113 मतदान केन्द्र व 372 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ खंड शिक्षक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 111 मतदान केन्द्र व 116 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ में स्नातक के लिए 77 बूथ व 31 मतदान केन्द्र तथा शिक्षक निर्वाचन के लिए 30 बूथ व 30 मतदान केन्द्र हैं। उन्होंने बताया कि मतदान प्रातः 8.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक होगा। स्नातक के लिए 30 व शिक्षक निर्वाचन के लिए 15 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। मतपत्र में नोटा

कोरोना वायरस से बचाव के लिए किया औषधियुक्त हवन

यूरेशिया संवाददाता


मेरठ। कंकरखेड़ा स्थि तक्षशिला पब्लिक स्कूल में में हवन अनुष्ठान सम्पन्न कराया गया। हवन कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए वायुमंडल शुद्ध करने के उद्देश्य से किया गया। हवन में चिरायता, कालमेघ, नागरमोथा, लौंग, तेजपत्र, कपूर, तुलसी सर्पपंखा, करांजगिरी, गिलोय, कुटकी, नीम की निमोली आदि का मिश्रण बनाकर औषधि युक्त हवन सामग्री का प्रयोग किया गया। हवन में सभी बच्चें एवं अध्यापक-गण सम्मिलित हुए। इस अवसर पर प्रधानाचार्य कमल कुमार दीवान ने कहा कि हवन हमारी वैदिक संस्कृति का प्रतीक है। इस प्रकार की औषधियुक्त सामग्री से हवन करने पर वातावरण शुद्ध होता है तथा सांस से फैलने वाली बीमारियों की रोकथाम होती है, उन्होने कहा कि यदि सभी लोग अपने घरो में हवन करें तो इस संक्रमण से बचा जा सकता है।



 तक्षशिला में हवन यज्ञ करते हुए।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां