थाना मवाना पुलिस द्वारा मात्र तीन घण्टे में घर से लापता बच्चा बरामद किया

Image
डॉ0 असलम/युरेशिया मवाना। धनवीर पुत्र विक्रम नि0 कौल थाना मवाना जनपद मेरठ द्वारा सूचना दी गयी कि उनका 14 वर्षीय पुत्र जो स्प्रिंग डेल स्कूल में पढता है घर से स्कूल गया था और वापस घर नही आया है तथा उसके मो0नं0 9528655319 से अपने छोटे भाई अमित के फोन पर व्हाटसअप मैसेज किया गया कि, मैं जा रहा हूँ अब कुछ बनकर ही घर वापस आऊँगा । मुझे तलाश करने की कोशिश मत करना । घर वालो ने किसी अनहोनी की आशंका प्रकट की है और बताया कि हमारा लड़का इस तरह से मैसेज नही कर सकता है । इस सूचना पर थाने से टीम गठित की गयी तथा सर्विलांस सैल की मदद ली गयी । प्राप्त मोबाइल नम्बर की लोकेशन से जो टॉवर लोकेशन मिली थी पुलिस द्वारा आसपास के गांव के जंगल व ट्यूबवैल तथा खाली पडे मकानो में टीम बनाकर ढूंढवाया गया । तो लगभग 3 घण्टे के अथक प्रयास के बाद लडके को कौल गांव के जंगल से सकुशल ढूंढ निकाला गया । पूछने पर लड़के ने बताया कि मेरे टीचर ने प्रोजेक्ट दिया था और मैं उसे पूरा नही कर पाया जिसके कारण मैं स्कूल न जाकर अपने घर से भाग गया था । मुझे डर था कि मेरे पिता मुझे मारेगें । इसलिए मैंने इस प्रकार के मैसेज किये थे ।

तिरंगा यात्रा पर पुलिस का अड़ंगा: अनुमति नहीं मिलने के चलते पुलिस नहीं निकालने दी तिरंगा यात्रा



  •  सीएए के समर्थन में एबीवीपी को निकालनी थी तिरंगा यात्रा


अमित सैनी


बड़ौत। सीएए के समर्थन में एबीवीपी की प्रस्तावित तिरंगा यात्रा पर पुलिस ने अड़ंगा अड़ाते हुए यात्रा को नहीं निकलने दिया। इससे परिषद और भाजपा कार्यकर्ताओं में आक्रोश व्याप्त हो गया। बहराल, अनुमति ना मिलने के कारण तिरंगा यात्रा को स्थगित करना पड़ा। इस बीच यात्रा में शामिल होने पहुँचे स्कूली बच्चों व शिक्षकों को भी पुलिस की सख्ती के चलते वापस लौटना पड़ा। 
दरअसल, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा सीएए के समर्थन में तिरंगा यात्रा का आयोजन करने का निर्णय लिया हुआ था। इस पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत यह यात्रा बड़ौत रेलवे स्टेशन से शुरू होकर शहर के विभिन्न मार्गों से होकर निकाली जानी थी। इस तिरंगा यात्रा में शिक्षण संस्थाओं के बच्चे भी शामिल किए जाने थे। प्रशासन द्वारा तिरंगा यात्रा को अनुमति ना मिलने के कारण पुलिस ने पहले ही फील्डिंग बिछा ली थी। रेलवे स्टेशन परिसर में काफी संख्या में पुलिसबल सीओ बागपत ओमपाल सिंह के नेतृत्व में एकत्रित किया गया था। रेलवे स्टेशन परिसर में बेरिकेटिंग भी की गई थी ताकि इस तिरंगा यात्रा को निकलने से रोका जा सकें। निर्धारित11 बजे जब एबीवीपी व भाजपा कार्यकर्ता स्टेशन परिसर में जमा होना शुरू भी हो गए। शहर के डिवाइन ग्लोबल एकेडमी के बच्चे भी यात्रा में शामिल होने के लिए पहुँच गए। सीओ बागपत ओमपाल सिंह व बड़ौत कोतवाल अजय शर्मा द्वारा परिषद कार्यकर्ताओं को स्पष्ट चेतावनी दी गयी कि यदि बिना अनुमति के यात्रा निकालने का प्रयास भी किया गया तो पुलिस सख्ती करेगी। पुलिस ने स्कूली बच्चों व शिक्षकों को भी वहां से वापस लौटा दिया। इस पर कार्यकर्ताओं में आक्रोश व्याप्त हो गया। 
कार्यकर्ताओं का कहना था कि बिना अनुमति के दिल्ली के शाहीन बाग में 50 दिन से अधिक मार्ग जाम कर धरना दिया जा रहा है, उनके खिलाफ कार्यवाही नहीं की जा रही है, उल्टा पुलिस और प्रशासन उन्हें शांतिपूर्ण तरीके से तिरंगा यात्रा भी नहीं निकालने दे रहा है जबकि उनके द्वारा कई बार यात्रा की लिखित अनुमति लेने का प्रयास भी किया गया, लेकिन प्रशासन ने अनुमति नहीं दी। इस बार वे फिर से हर हाल में तिथि निर्धारित कर तिरंगा यात्रा निकालेंगे। इस दौरान परिषद के कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर अभद्रता करने का भी आरोप लगाया। मौके पर परिषद के जिला संयोजक अंकुर चौधरी, अंकुर तोमर, आशीष, भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष वेदपाल उपाध्याय, चन्द्रवीर तोमर, हैप्पी शर्मा, अंकित पहलवान, कमल तोमर आदि मौजूद रहे।


Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव