4 दिन से लापता युवक की गुमशुदगी की दी तहरीर

Image
लापता बच्चे का फोटो डॉ असलम/ युरेशिया  बहसूमा। नगर के मोहल्ला चैनपुरा का रहने वाला एक 17 वर्षीय युवक संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गया। परिजन 4 दिनों से उसकी तलाश में जुटे हुए थे। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। गायब हुए बच्चे के पिता ने थाने पर गुमशुदगी दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। थाने पर तहरीर देते हुए लापता हुए एक बच्चे के पिता शकील पुत्र सिराजुद्दीन ने बताया कि उसका पुत्र नईम उम्र 17 वर्ष बीते 28 फरवरी को घर से बिना बताए चला गया। जब 1 मार्च की शाम तक घर नहीं लौटा तो उसकी रिश्तेदारी एवं संबंधियों में तलाश की। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। पीड़ित ने थाने पर गुमशुदगी की तहरीर देते हुए बरामदगी की मांग की है। थाना प्रभारी निरीक्षक मनोज चौधरी का कहना है कि तहरीर के आधार पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

समीक्षा बैठक में उप गन्ना आयुक्त ने कस पेंच


  •  शासन की प्राथमिकता के आधार पर शत प्रतिशत भुगतान करने की दिये निर्देश 


 यूरेशिया संवाददाता


मेरठ। उप गन्ना आयुक्त मेरठ राजेश मिश्र ने गन्ना भवन में  अधिकारियों के साथ विभागीय मासिक समीक्षा बैठक आहूत की गई। बैठक में उपस्थित जिला गन्ना अधिकारी, ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक, सचिवों को निर्देशित किया गया कि समिति परिसर में विगत पेराई सत्रों के गन्ना मूल्य भुगतान, गन्ना पेराई व चीनी परता की तुलनात्मक सूचना की फ्लेक्सी तैयार कराकर  लगाये जाने के निर्देश दिये। 
 समीक्षा बैठक में उन्होंने समिति निर्वाचन कार्य समय से किया जाने विकास कार्यो की पूर्ति,एवं जिला गन्ना अधिकारी को गन्ना मूल्य भुगतान शासन की प्राथमिकता के आधार पर शत-प्रतिशत रूप से कराये जाने, चीनी मिल गेट/क्रय-केन्द्रों का नियमित रूप से निरन्तर औचक निरीक्षण किये जाने एवं क्रय केन्द्रों पर तैनात तौल लिपिकों के फोटोयुक्त परिचय पत्र की जॉच किये जाने, जो चीनी मिलों 92 प्रतिशत से कम पी.यू. पर चल रही है, उनका अनुश्रवण/समीक्षा कर 92 प्रतिशत पी.यू. तक संचालित कराये जाने एवं गूगल ड्राइव पर उपलब्ध विभागीय सूचनाओं से सम्बन्धित प्रारूपों पर त्रुटिरहित/सही सूचनाए अद्यतन किये जाने, आई.जी.आर.एस/मुख्यमंत्री डैसबोर्ड पर प्राप्त शिकायतों का त्वरित निस्तारण किये जाने के निर्देश दिए गए।
  जिला गन्ना अधिकारी को निर्देशित किया गया कि अपने भ्रमण के दौरान गन्ना समितियों/गन्ना विकास परिषदों/गोदामों आदि की आन्तरिक रख-रखाव की व्यवस्थाओं व परिसरों की स्वच्छता आदि को भी देखें जाने एवं कमियॉ संज्ञानित होने पर उन्हें दुरूस्त करवाने व गन्ने की सूखी पत्तियों को जलाने के स्थान पर टैऊश मल्चर एवं रैटून मैनेजमेन्ट डिवाईस का उपयोग किये जाने के निर्देश दिए गए।      समीक्षा बैठक में जिला गन्ना अधिकारी मेरठ डॉ. दुष्यन्त कुमार, बागपत डॉ. अनिल कुमार भारती, बुलन्दशहर डी.के.सैनी, हापुड निधि गुप्ता, बीज उत्पादन अधिकारी मेरठ विनीत कुमार, सम्भागीय विख्यापन अधिकारी उपेन्द्र सिंह, अपर सांख्यिकीय अधिकारी डॉ. अमित यादव एवं परिक्षेत्र मेरठ के समस्त ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक व सचिवों द्वारा प्रतिभाग किया गया। 


Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला