राष्ट्रगान में बदलाव के लिए सुब्रमण्यम स्वामी ने पीएम को लिखा पत्र, ट्विटर पर लिखा ये पोस्ट

नई दिल्लीः बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राष्ट्रगान में बदलाव के लिए पीएम मोदी को पत्र लिखा है. स्वामी ने पीएम मोदी को भेजे गए इस पत्र को ट्विटर पर भी शेयर किया है. उन्होंने खत में कहा है कि राष्ट्रगान 'जन गण मन...' को संविधान सभा में सदन का मत मानकर स्वीकार कर लिया गया था. उन्होंने आगे लिखा है, 26 नवंबर, 1949 को संविधान सभा के आखिरी दिन अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने बिना वोटिंग के ही 'जन गण मन...' को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार कर लिया था. हालांकि, उन्होंने माना था कि भविष्य में संसद इसके शब्दों में बदलाव कर सकती है. स्वामी ने लिखा है कि उस वक्त आम सहमति जरूरी थी क्योंकि कई सदस्यों का मानना था कि इस पर बहस होनी चाहिए, क्योंकि इसे 1912 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में ब्रिटिश राजा के स्वागत में गाया गया था.

सांस्कृतिक डाटा व परम्पराओं को सूचीबद्ध कर शासन को भेजी जायेगी रिपोर्ट-सीडीओ


यूरेशिया संवाददाता


मेरठ। जनपद स्तर पर सांस्कृतिक परम्पराओं एवं गतिविधियों का अभिलेखीकरण किये जाने का निर्णय सरकार ने लिया है। इसके लिए जनपद स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में 15 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है। बचत भवन में समिति की द्वितीय बैठक की अध्यक्षता करते हुये मुख्य विकास अधिकारी ईशा दुहन ने यह जानकारी दी। उन्होने बताया कि सांस्कृतिक डाटा व परम्पराओं को सूचीबद्ध करने के लिए 15 बिंदुओं पर सूचनाये शासन को प्रेषित की जानी है। उन्होने बताया कि इस संबंध में एक प्रस्तावित रिपोर्ट तैयार की गयी है, जिस पर सदस्यों से उनकी टिप्पणी मांगी गयी है साथ ही अगर वह कोई सुझाव देना चाहते है तो उसको भी समिति के समक्ष प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है ताकि उनके सुझावों पर विचार कर अंतिम निर्णय लिया जा सके।  
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वित्त सुभाष चन्द्र प्रजापति, सहायक नगरायुक्त ब्रजपाल सिंह, संग्रहालयाध्यक्ष पतरू, एनएएस डिग्री कालिज के ललित कला की विभागाध्यक्ष अलका तिवारी, ईस्माईल डिग्री कालिज की संगीत कला की विभागाध्यक्ष डा. रीना गुप्ता, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत प्रदीप कुमार सक्सैना, दूरदर्शन संवाददाता संगीता श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां