सुबह 8 बजे से वोटिंग शुरू, नोटा का नहीं है विकल्प, हर हाल में देना होगा वोट

Image
मेरठ  ( युरेशिया) । स्नातक एवं शिक्षक चुनाव के लिए आज 1 दिसंबर 2020 को वोट डाले जा रहे हैं। जिसके लिए विक्टोरिया पार्क से सोमवार को ही पोलिंग पार्टी रवाना हुई थीं। जनपद मेरठ में स्नातक के लिए 77 व शिक्षक के लिए 30 बूथ बनाए गए हैं। एक पोलिंग पार्टी में एक पीठासीन अधिकारी व 3 मतदान अधिकारी मौजूद हैं। सुबह आठ बजे से वोटिंग शुरू हो गई है। जो शाम पांच बजे तक चलेगी।अधिकारी भी लगातार बूथ पर निरीक्षण कर रहे हैं। जिलाधिकारी के. बालाजी ने बताया कि मेरठ खंड स्नातक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 113 मतदान केन्द्र व 372 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ खंड शिक्षक निर्वाचन के लिए मेरठ व सहारनपुर मंडल के सभी नौ जनपदों में मिलाकर 111 मतदान केन्द्र व 116 मतदेय स्थल (सहायक बूथ सहित) बनाये गये हैं। मेरठ में स्नातक के लिए 77 बूथ व 31 मतदान केन्द्र तथा शिक्षक निर्वाचन के लिए 30 बूथ व 30 मतदान केन्द्र हैं। उन्होंने बताया कि मतदान प्रातः 8.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक होगा। स्नातक के लिए 30 व शिक्षक निर्वाचन के लिए 15 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। मतपत्र में नोटा

पहले दुष्कर्म और अब नाबालिग बताकर रुकवा दी शादी

यूरेशिया संवाददाता
मेरठ। भावनपुर क्षेत्र के एक गांव में शुक्रवार देर रात एक नाबालिग लड़की की शादी रुकवा दी। पुलिस को सूचना देने वाला गांव का नहीं, बल्कि किशोरी को अगवा कर दुष्कर्म करने वाला आरोपी है। इसकी जानकारी मिलने पर ग्रामीणों की भीड़ लग गई। ग्रामीणों ने कहा कि किशोरी बालिग है, लेकिन पुलिस नहीं मानी। मामला तूल पकडऩे पर रात में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट को बुलाया।
भावनपुर के एक गांव निवासी युवती की बरात बहसूमा क्षेत्र के एक गांव से आ रही थी। इसी दौरान भावनपुर पुलिस पहुंची व शादी रुकवा दी। पुलिस ने बताया कि उनको सूचना मिली है कि दुल्हन नाबालिग है। परिजनों ने पुलिस के सामने गुहार लगाई कि बेटी बालिग है, उसकी शादी होने दीजिए। पहले ही उनकी काफी बदनामी हो चुकी है। यह सुनकर पुलिस ने किशोरी का पुराना रिकॉर्ड पूछा। परिजनों ने बताया कि हापुड़ का एक युवक किशोरी को दो साल पहले अगवा कर ले गया था। जिसका मुकदमा भी भावनपुर थाने में दर्ज है। पुलिस ने किशोरी को बरामद कर आरोपी राहुल को जेल भेजा दिया था। पुलिस ने बताया कि किशोरी के नाबालिग होने की जानकारी भी राहुल ने ही दी है। यह सुनकर ग्रामीणों का गुस्सा फूट गया। मौके पर ग्रामीणों की भीड़ लग गई। आरोपी ने पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना देने के अलावा पुलिस के आला अधिकारियों को भी इसकी जानकारी दी है। ग्रामीणों ने पुलिस से गुहार लगाई कि गांव की इज्जत का मामला है, लड़की शादी हो जाने दीजिए। करीब एक घंटे तक बखेड़ा चला। उसके बाद बरात वापस लौट गई। शादी न होने पर परिवार के लोगों में आक्रोश है। पुलिस ने बताया कि बरात रास्ते से लौट गई है।
परिजनों ने बताया कि जहां पर वह बेटी का रिश्ता तय करते हैं, वहीं राहुल जाकर बेटी के बारे में गलत बातें बताने पहुंच जाता है। जिसके चलते वह छह महीने से इसको लेकर परेशान हैं। अब गुपचुप तरीके से परिजन बेटी की शादी कर रहे थे। इसके बावजूद राहुल ने पुलिस को गलत सूचना देकर बरात रुकवा दी। पीडि़त परिवार का कहना है कि आरोपी राहुल जेल से छूटने के बाद से उनको परेशान कर रहा है। बार-बार धमकी देता है कि बेटी को उठाकर ले जाएगा। इस मामले की शिकायत वह पुलिस अधिकारियों से करेंगे।


Popular posts from this blog

परीक्षितगढ़ क्षेत्र के ग्राम सिखैड़ा में महिला मिली कोरोना पॉजिटिव

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला 

माछरा गांव में खुलेआम उड़ाई जा रही हैं लॉक डाउन की धज्जियां