4 दिन से लापता युवक की गुमशुदगी की दी तहरीर

Image
लापता बच्चे का फोटो डॉ असलम/ युरेशिया  बहसूमा। नगर के मोहल्ला चैनपुरा का रहने वाला एक 17 वर्षीय युवक संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गया। परिजन 4 दिनों से उसकी तलाश में जुटे हुए थे। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। गायब हुए बच्चे के पिता ने थाने पर गुमशुदगी दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। थाने पर तहरीर देते हुए लापता हुए एक बच्चे के पिता शकील पुत्र सिराजुद्दीन ने बताया कि उसका पुत्र नईम उम्र 17 वर्ष बीते 28 फरवरी को घर से बिना बताए चला गया। जब 1 मार्च की शाम तक घर नहीं लौटा तो उसकी रिश्तेदारी एवं संबंधियों में तलाश की। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। पीड़ित ने थाने पर गुमशुदगी की तहरीर देते हुए बरामदगी की मांग की है। थाना प्रभारी निरीक्षक मनोज चौधरी का कहना है कि तहरीर के आधार पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

छात्राओं ने बस्ती में किया सर्वे

 


यूरेशिया संवाददाता
बड़ौत। जनता वैदिक कॉलेज की राष्ट्रीय सेवा योजना चतुर्थ इकाई के सात दिवसीय विशेष शिविर के पांचवें दिन का शुभारंभ ईश वन्दना से हुआ। स्वयं सेविकाओं  ने बस्ती स्थल पर जाकर साक्षरता दर संबंधी एक सर्वे किया। उन्होंने पाया कि अधिकांश परिवारों में माता पिता जीविकोपार्जन के लिए मज़दूरी या घरों में काम करने के लिए गए हुए थे और बच्चे इधर उधर भटक रहे थे। शुरू शुरू में छात्राओं से बात करने में बस्ती के बच्चे कुछ संकोच कर रहे थे। धीरे धीरे बस्ती की कुछ बुजुर्ग महिलाएँ और बच्चे बात करने के लिए तैयार हो गए ।जब छात्राओं ने उनसे जानना चाहा कि स्कूल क्यों नहीं जाते हो तो उनका कहना था कि घर में छोटी बहन भाई हैं उनका ध्यान रखना है और आर्थिक समस्या भी बतायी। उन्हें शिक्षा का महत्व बताते हुए छात्राओं ने सरकारी स्कूलों में शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया और साथ ही उन्हें नाम लिखना भी सिखाया है। सरकार के द्वारा भी साक्षरता अभियान के अंतर्गत अनेक कार्यक्रम समय समय पर चलाए जाते हैं। उनको बताया गया कि सरकारी स्कूलों में फ़ीस नहीं ली जाती पुस्तक की निःशुल्क दी जाती है। दोपहर के भोजन की व्यवस्था भी मिड डे मील के द्वारा की गई है। छात्राओं द्वारा एक नुक्कड़ नाटक का मंचन किया गया जिसमें सड़क पर लगने वाले जाम से निजात पाने के लिए यातायात नियमों का पालन करने के लिए एक सुंदर संदेश दिया गया है जिसका उद्देश्य प्रतिदिन होने वाली परेशानियों और दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाना था। संध्या राणा, साक्षी, ईशा, क्रिया आदि का मंचन बहुत ही सराहनीय रहा है। कार्यक्रम अधिकारी डॉक्टर  गीता रानी ने संस्कृति को सहेजने के लिए हमें अपनी पुरानी स्वस्थ परम्पराओं को सहेजने की आवश्यकता बतायी। डॉक्टर अनिरुद्ध शर्मा ने ऑर्गेनिक खाद्य पदार्थों के सेवन उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति बताया । इस अवसर पर डॉक्टर रीना, डॉक्टर रेनू, डॉक्टर इंदू, डॉक्टर देवेंद्रपाल तोमर,  डॉक्टर मालती आदि मौजूद रहे।


Popular posts from this blog

मेरठ में महिला ने तीन बेटियों समेत खुद की गर्दन काटी, एक की मौत

यूपी पंचायत चुनाव : मेरठ में ग्राम प्रधान पदों की आरक्षण सूची जारी, देखें ब्लॉकवार आरक्षण की सूची

मवाना में अवैध मीट कटान रोकने गई पुलिस टीम पर हमला